Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

बुलबुला

तुम..आओ फिर
एक बार यौंही
डूब कर खिल जाओ
पानी के बुलबुले-सी
गहरी चमक
मिल जाती है तुम में
धरती की काया
सज गयी
फिर पहले सी
जैसे तुम वर्षों तक
उजली आंखों में थे
आज पुनः सहेजा है तुम्हें
पुरानी यादों की तरह
आओ! हम दोनों
एक बार फिर खिले
उजले पुष्प की तरह۔۔ ।
मनोज शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 584 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
उस वक़्त मैं
उस वक़्त मैं
gurudeenverma198
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
सुंदर शरीर का, देखो ये क्या हाल है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
माँ सरस्वती अन्तर्मन मन में..
Vijay kumar Pandey
व्यथित ह्रदय
व्यथित ह्रदय
कवि अनिल कुमार पँचोली
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
खुशी के पल
खुशी के पल
RAKESH RAKESH
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कलयुग और महाभारत
कलयुग और महाभारत
Atul "Krishn"
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
कुंडलिया छंद की विकास यात्रा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
मुक्तक
मुक्तक
anupma vaani
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
स्वप्न मन के सभी नित्य खंडित हुए ।
Arvind trivedi
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
परमात्मा से अरदास
परमात्मा से अरदास
Rajni kapoor
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
Loading...