Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

*बुरा न मानो होली है 【बाल कविता 】*

बुरा न मानो होली है 【बाल कविता 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
चला अकड़कर शेर , कहा मैं हूँ जंगल का राजा
जो डालेगा रंग ,बजा दुंगा मैं उसका बाजा

अकड़ सुनी तो सब बोले, अब रंग इसे
डालेंगे
सजा मिलेगी सोचा सबने, जो चाहे खा लेंगे

रंग सूंड से हाथी ने , भरकर फुहार दे मारी
रंग छोड़ती बंदर के हाथों में थी पिचकारी

हाथों में लेकर गुलाल हिरनी ने खूब लगाया
आग बबूला हुआ शेर ,चेहरा गुस्से में आया

बोला “कैसे नटखट यह तुम लोगों की टोली है”
सब चिल्लाए “शेरू दादा ! बुरा न मानो होली है”
===========================
रचयिताः रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश,
मोबाइल 999761 5451

444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
अपने-अपने राम
अपने-अपने राम
Shekhar Chandra Mitra
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
💐प्रेम कौतुक-322💐
💐प्रेम कौतुक-322💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
होली आयी होली आयी
होली आयी होली आयी
Rita Singh
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
सराब -ए -आप में खो गया हूं ,
Shyam Sundar Subramanian
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2360.पूर्णिका
2360.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां कालरात्रि
मां कालरात्रि
Mukesh Kumar Sonkar
फितरत
फितरत
umesh mehra
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ बेशर्म सियासत दिल्ली की।।
■ बेशर्म सियासत दिल्ली की।।
*Author प्रणय प्रभात*
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
Loading...