Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

बिना रुके रहो, चलते रहो,

बिना रुके रहो, चलते रहो,
जीवन की यात्रा में बनते रहो।
राहों में मिलेंगे मंजिलें नई,
हर कदम पर नई कहानियाँ साथ लाई।

चुपचाप नहीं, बोलते रहो गीत,
हर संघर्ष को साहस से हारो मीत।
कल की चिंगारी से सीखो नया,
आज को सजाओ, नई उम्मीद की छाया।

संगीत की तरह बजती रहे जिंदगी,
दुःख को भी स्वीकारो, खुशियों की भी।
एक नई रंगिनी में भरो अपनी कलम,
सचाई की राह पर चलते रहो संग।

चलते रहे रहो में,जीवन की यात्रा में।
रास्ते अनजान, पर मंजिल मिलेगी,
संघर्षों से भरा, फिर भी खुशियाँ होंगी।
राहों में हो रौशनी,सपनों की बहार मिलेगी।

Language: Hindi
50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan sarda Malu
View all
You may also like:
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
जिस तरह फूल अपनी खुशबू नहीं छोड सकता
shabina. Naaz
सच्चा प्यार
सच्चा प्यार
Mukesh Kumar Sonkar
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
सारे जग को मानवता का पाठ पढ़ा कर चले गए...
Sunil Suman
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
वो नौजवान राष्ट्रधर्म के लिए अड़ा रहा !
जगदीश शर्मा सहज
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
■ भविष्यवाणी...
■ भविष्यवाणी...
*Author प्रणय प्रभात*
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
अखंड भारत
अखंड भारत
कार्तिक नितिन शर्मा
वसंत - फाग का राग है
वसंत - फाग का राग है
Atul "Krishn"
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
भगोरिया पर्व नहीं भौंगर्या हाट है, आदिवासी भाषा का मूल शब्द भौंगर्यु है जिसे बहुवचन में भौंगर्या कहते हैं। ✍️ राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
लड़खाएंगे कदम
लड़खाएंगे कदम
Amit Pandey
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
ज़माने की बुराई से खुद को बचाना बेहतर
नूरफातिमा खातून नूरी
बाल  मेंहदी  लगा   लेप  चेहरे  लगा ।
बाल मेंहदी लगा लेप चेहरे लगा ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
"मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...