Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

बाल हैं सौंदर्य मनुज का, सबके मन को भाते हैं।

काले लम्बे घने बाल,मन को बहुत लुभाते हैं
इसलिए सफेद बालों को अक्सर,काला रंग लगाते हैं
विविध केश विन्यासों से, मुखड़े को और सजाते हैं
गंजे हो जाने पर,विग भी बहुत लगाते हैं
मंहगी मंहगी तकनीकों से,सिर पर बाल उगाते हैं
गोरा रंग और बाल सुनहरे, अक्सर यूरोप में होते हैं
चलन चल रहा रंग करने का,कई रंगों में लोग रंगाते हैं
शोख अदाएं जुल्फों की,जब गजरा और सजाते हैं
मंत्र मुग्ध कविगण सुंदर, गीत श्रंगार के गाते हैं
खुले बाल घटा सावन की, चोटी नागिन बतलाते है
सौंदर्य वोध बढ़ा रही लट,जब अलकों तक आती है
चांद घटाओं से निकला, उपमा कही न जाती है
उम्र के साथ सफेद बाल, अनुभव की एक कहानी है
दादा दादी नाना नानी, रिश्तों की अजब कहानी है
परिवार में जीवन क्षय पर, बाल दिए जाते हैं
मन्नत स्वरूप बाल देवों को, भेंट किए जाते हैं
बाल जरूरी हैं सबको, ठंड गर्मी से हमें बचाते हैं
विन बालों के दुनिया में, गंजे हम कहलाते हैं
बाल हैं सौंदर्य मनुज का,सबके मन को भाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

366 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
अपनी पहचान
अपनी पहचान
Dr fauzia Naseem shad
"देखकर उन्हें हम देखते ही रह गए"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Shayari
Shayari
Sahil Ahmad
कर सत्य की खोज
कर सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
रचना प्रेमी, रचनाकार
रचना प्रेमी, रचनाकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भावनात्मक निर्भरता
भावनात्मक निर्भरता
Davina Amar Thakral
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/23.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मोबाईल नहीं
मोबाईल नहीं
Harish Chandra Pande
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
आंखें भी खोलनी पड़ती है साहब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
(1) मैं जिन्दगी हूँ !
Kishore Nigam
सत्संग
सत्संग
पूर्वार्थ
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*प्रणय प्रभात*
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
चलो आज वक्त से कुछ फरियाद करते है....
चलो आज वक्त से कुछ फरियाद करते है....
रुचि शर्मा
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भ्रम
भ्रम
Dr.Priya Soni Khare
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Khuch rishte kbhi bhulaya nhi karte ,
Sakshi Tripathi
*काले-काले मेघों ने ज्यों, नभ का सुंदर श्रृंगार किया (राधेश्
*काले-काले मेघों ने ज्यों, नभ का सुंदर श्रृंगार किया (राधेश्
Ravi Prakash
Loading...