Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2023 · 1 min read

बाल वीर दिवस

सन् १७०४ई.में औरंगज़ेब ने गुरु गोविंद सिंह से युद्ध किया।
लड़ता रहा सात माह तक,किला नहीं था भेद सका।।
चालबाज मुगलों ने समझौते का प्रस्ताव दिया।
नहीं करेंगे परिवार को आहत, उसने ऐसा इजहार किया।।
समझौते आड़ में उसकी सेना ने, परिवार को गिरफ्तार किया।
दो छोटे साहिब जादों को, माता गुजरी सहित बंदी बना लिया।।
साहिब जादे जोरावर सिंह तब ९ बर्ष के थे।
साहिब जादे फतेह सिंह जी केबल ७ साल के थे।।
ढेरों लालच दिए थे उनको,अपना धर्म बदलने को।
इस्लाम कबूल करने पर,कह दिया जान बख्शने को।।
ढेरों यातनाएं दी उनको,पर वे धर्म पर अडिग रहे।
प्राण दे उन बहादुर वीरों ने, आख़री सांस तक सजग रहे।।
वजीर खान की कचहरी में,उन पर केश चलाया।
साम दाम और दण्ड भेद,कुछ भी काम न आया।।
बजीर खान ने उन दोनों वीरों को, मृत्यु दण्ड दिया।
दोनों वीर बालकों को, जिंदा दीबार में चुना दिया।।
इतनी छोटी उम्र में भी,न रोए न घवराए।
अपने धर्म पर अडिग रहे, वीरों ने प्राण चढ़ाए।।
पा गए अमर पद वीर, धर्म पर वे कुर्बान हुए।
शीश जाए पर धर्म न जाए, साहिब जादे सिखी शान हुए।।
श्री फतेहगढ़ साहिब में ,उनका शहीदी स्थान है।
भारत माता की माटी, और हमारी शान है।।
वाहे गुरुजी का खालसा,वाहे गुरुजी की फतह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Ye din to beet jata hai tumhare bina,
Sakshi Tripathi
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
चांदनी रातों में
चांदनी रातों में
Surinder blackpen
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
नफ़रत के सौदागर
नफ़रत के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हरषे धरती बरसे मेघा...
हरषे धरती बरसे मेघा...
Harminder Kaur
,,
,,
Sonit Parjapati
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
"आँख और नींद"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
निज धर्म सदा चलते रहना
निज धर्म सदा चलते रहना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ नज़रिया बदले तो नज़ारे भी बदल जाते हैं।
■ नज़रिया बदले तो नज़ारे भी बदल जाते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पुलवामा अटैक
पुलवामा अटैक
लक्ष्मी सिंह
Loading...