Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2016 · 1 min read

बाल कविता प्यारी चिड़िया

चूं चूं चिड़िया आओ ना
दाना रक्खा खाओ ना
????????
फुदक फुदक कर चलती हो
तिनके देख मचलती हो
????????
नीड़ बनाती हो सुंदर
सीखा कैसे दो उत्तर
????????
आंगन सूना-सूना है
बुला रहा हर कोना है
????????
गाकर गीत जगाओ ना
प्यारी चिड़िया आओ ना

अंकिता

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 1692 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
*सदियों बाद पधारे हैं प्रभु, जन्मभूमि हर्षाई है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
क्या क्या बताए कितने सितम किए तुमने
Kumar lalit
"खेलों के महत्तम से"
Dr. Kishan tandon kranti
11-कैसे - कैसे लोग
11-कैसे - कैसे लोग
Ajay Kumar Vimal
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
पितृ हमारे अदृश्य शुभचिंतक..
Harminder Kaur
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
🔥वक्त🔥
🔥वक्त🔥
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कभी
कभी
हिमांशु Kulshrestha
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
ख़त पहुंचे भगतसिंह को
Shekhar Chandra Mitra
जैसी सोच,वैसा फल
जैसी सोच,वैसा फल
Paras Nath Jha
कितने बेबस
कितने बेबस
Dr fauzia Naseem shad
खुले आँगन की खुशबू
खुले आँगन की खुशबू
Manisha Manjari
कलियुग है
कलियुग है
Sanjay ' शून्य'
वाल्मिकी का अन्याय
वाल्मिकी का अन्याय
Manju Singh
बेवकूफ
बेवकूफ
Tarkeshwari 'sudhi'
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
लब हिलते ही जान जाते थे, जो हाल-ए-दिल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ह्रदय के आंगन में
ह्रदय के आंगन में
Dr.Pratibha Prakash
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
एकता
एकता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...