Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jan 2024 · 1 min read

बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय

बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
****************************

रंग बिरंगें पंखों वाली, तितली रानी उड़ती है।
आओ बच्चों हम सब सीखे, क्या क्या यह करती है।।

सुबह को उठती कुल्ला करती, मंजन भी यह करती है।
योगा करती रोज नहाती, सुन्दर सुन्दर दिखती है।।

मम्मी उसको खाना देती, वह टिफिन में रखती है।
लेकर बस्ता नाप के रस्ता, वह विद्यालय जाती है।।

नन्हे मुन्ने बच्चे मिलते, सबको गले लगाती है।
खूब पढोगे आगे बढ़ोगे, यह सबको सिखलाती है।।

रंग बिरंगें पंखों वाली, तितली रानी उड़ती है।
आओ बच्चों हम सब सीखे क्या क्या यह करती है।।

****************📚*****************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

2 Likes · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
भारी पहाड़ सा बोझ कुछ हल्का हो जाए
शेखर सिंह
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फिर  किसे  के  हिज्र  में खुदकुशी कर ले ।
फिर किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले ।
himanshu mittra
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
आ गया है मुस्कुराने का समय।
आ गया है मुस्कुराने का समय।
surenderpal vaidya
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
2909.*पूर्णिका*
2909.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
नारी तेरी महिमा न्यारी। लेखक राठौड़ श्रावण उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
जीवन में ठहरे हर पतझड़ का बस अंत हो
Dr Tabassum Jahan
कर्म से कर्म परिभाषित
कर्म से कर्म परिभाषित
Neerja Sharma
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
"खुद का उद्धार करने से पहले सामाजिक उद्धार की कल्पना करना नि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
■ तो समझ लेना-
■ तो समझ लेना-
*प्रणय प्रभात*
"बदलते रसरंग"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
पिछले पन्ने 4
पिछले पन्ने 4
Paras Nath Jha
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
*छल-कपट को बीच में, हर्गिज न लाना चाहिए【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
" पलास "
Pushpraj Anant
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
अपनी तो मोहब्बत की इतनी कहानी
AVINASH (Avi...) MEHRA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
इस हसीन चेहरे को पर्दे में छुपाके रखा करो ।
Phool gufran
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...