Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

बारिश….

गज़ल

ग़मों का बोझ बढ़ाने को आ गई बारिश ,
हमारी जान जलाने को आ गई बारिश ।

किसी की याद को हमनें भुला के रखा था,
उसी की याद दिलाने को आ गई बारिश ।

जमीं को जितने अजब ज़ख्म दे गया सूरज,
उन्हीं की टीस बढ़ाने को आ गई बारिश ।

किताबे दिल पे तेरा नाम था लिखा हमनें ,
उसी के हर्फ़ मिटाने को आ गई बारिश ।

अभी तो “आरसी” आँखों में थी नमी बाकी ,
दुबारा आँख भिगाने को आ गई बारिश ।

– आर० सी० शर्मा “आरसी”

1 Comment · 247 Views
You may also like:
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
इंतजार
Anamika Singh
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
सुन्दर घर
Buddha Prakash
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
धन्य है पिता
Anil Kumar
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...