Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2023 · 1 min read

बारिश के लिए तरस रहे

बारिश के लिए तरस
रहे पूर्वी यूपी के लोग
वर्षा अच्छी हो तो बने
खेती को सही संयोग
डीजल इंजन से खेत
सींचकर बो रहे हैं धान
ऐसे में कृषि की लागत
छूने लगी है आसमान
खेती को अब लाभ का
कार्य नहीं मानते लोग
ज्यादातर खेत खाली
पड़े बिना किसी प्रयोग
गांवों में हताशा बढ़ रही
अधिकांश युवा हैं निराश
गांवों में उत्पादकता बढ़ाने
को योजना चाहिए खास
गांव गांव में रोजगार वृद्धि
को जब बनेगी सही नीति
तभी देश की समृद्धि का
सपना लेगा सही परिणति

Language: Hindi
109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
*****आज़ादी*****
*****आज़ादी*****
Kavita Chouhan
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
है बुद्ध कहाँ हो लौट आओ
VINOD CHAUHAN
2841.*पूर्णिका*
2841.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
■ केवल लूट की मंशा।
■ केवल लूट की मंशा।
*प्रणय प्रभात*
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
भारत शांति के लिए
भारत शांति के लिए
नेताम आर सी
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
दुनियां में मेरे सामने क्या क्या बदल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
कुमार
अकेलापन
अकेलापन
Shashi Mahajan
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
अलिकुल की गुंजार से,
अलिकुल की गुंजार से,
sushil sarna
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
दस्तरखान बिछा दो यादों का जानां
Shweta Soni
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
मैं भूत हूँ, भविष्य हूँ,
Harminder Kaur
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
न जाने कौन रह गया भीगने से शहर में,
शेखर सिंह
Loading...