Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

बारिश की मस्ती

निकला था मैं मस्ती में,
बारिश की इक छुट्टी में
छाता लेकर चलता था
रेनी- शू भी पहना था
फुर्ती-चुस्ती से बढ़ता
बस्ती से बाहर निकला
मौसम ने पल्टा खाया
ऑंधी का झोंका आया
काले बादल छाये थे
भीषण वर्षा लाये थे
खूब अंधेरा घिर आया
मन ही मन मैं घबराया
छाता मेरा टूट गया
घुटनों तक मैं डूब गया
मुश्किल से मैं चल पाया
टूटा सा एक घर आया
उसमें घुस कर सुस्ताया
हिम्मत मेरी टूटी थी
मस्ती सारी भूली थी
हाथ जोड़ कर बैठा था
हनुमान को जपता था
यूँ ही घंटे बीत गये
दिल के तारे टूट गये
मन रोने का करता था
थक करके मैं सोया था
धूप यकायक चमक गयी
नींद अचानक टूट गई
इंद्र देव खुश लगते थे
सातों रंग बिखरते थे
दिल खुशियों से झूम गया
दुःख का सागर सूख गया
भूख, कष्ट सब भूल गया
वापस घर मैं पहुँच गया।

1 Like · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
*धक्का-मुक्की मच रही, झूले पर हर बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
तेरी सादगी को निहारने का दिल करता हैं ,
Vishal babu (vishu)
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
****बहता मन****
****बहता मन****
Kavita Chouhan
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
ना कोई संत, न भक्त, ना कोई ज्ञानी हूँ,
डी. के. निवातिया
*.....थक सा गया  हू...*
*.....थक सा गया हू...*
Naushaba Suriya
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
थोड़ा सच बोलके देखो,हाँ, ज़रा सच बोलके देखो,
पूर्वार्थ
पंचांग (कैलेंडर)
पंचांग (कैलेंडर)
Dr. Vaishali Verma
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
#रोज़मर्रा
#रोज़मर्रा
*Author प्रणय प्रभात*
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
मुख पर जिसके खिला रहता शाम-ओ-सहर बस्सुम,
मुख पर जिसके खिला रहता शाम-ओ-सहर बस्सुम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2353.पूर्णिका
2353.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
Loading...