Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

बाबूजी।

बाबूजी।
मेरे लिए सबकुछ सह लेते हैं बाबूजी
बिना कहे सबकुछ कह लेते हैं बाबूजी।

अपने हिस्से की दे दी हर खुशी मुझे पर
स्वयं दर्द के दरिया में बह लेते हैं बाबूजी

मेरी राहों को रौशन किया हरदम लेकिन
खुद अँधेरे में कैसे रह लेते हैं बाबूजी।

न जाने किसकी नजर लगी है घर को
अब दवाएँ जिस तरह लेते हैं बाबूजी।
a m prahari

414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-537💐
💐प्रेम कौतुक-537💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सागर की ओर
सागर की ओर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/209. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
बहुत याद आती है
बहुत याद आती है
नन्दलाल सुथार "राही"
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Kumar lalit
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
विपक्ष आत्मघाती है
विपक्ष आत्मघाती है
Shekhar Chandra Mitra
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
स्वदेशी कुंडल ( राय देवीप्रसाद 'पूर्ण' )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀 *वार्णिक छंद।*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"Recovery isn’t perfect. it can be thinking you’re healed fo
पूर्वार्थ
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
हमारा प्रेम
हमारा प्रेम
अंजनीत निज्जर
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
नाबालिक बच्चा पेट के लिए काम करे
शेखर सिंह
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
Dr Archana Gupta
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"अनकही सी ख़्वाहिशों की क्या बिसात?
*Author प्रणय प्रभात*
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
आस्था और चुनौती
आस्था और चुनौती
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
*खोया अपने आप में, करता खुद की खोज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
Loading...