Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

बादल की रेख

भारी बरखा है कहीं , बूँद तरसते लोग
सावन का क्या दोष है , सबके अपने जोग
सबके अपने जोग , बना चाहे सब राजा
भूल सनातन धर्म , काट डाले तरु ताजा
कह कवि नंदन देव , घिरे कैसे जलधारी
लुटा धरा – श्रृंगार , हुई पीड़ा मन भारी
देवकीनंदन

311 Views
You may also like:
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
आँखे
Anamika Singh
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Writing Challenge- प्रकाश (Light)
Sahityapedia
रात में सो मत देरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
मिट्टी को छोड़कर जाने लगा है
कवि दीपक बवेजा
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
✍️फासले थे✍️
'अशांत' शेखर
*कुतर-कुतर कर खाओ(बाल कविता)*
Ravi Prakash
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
"बेरोजगारी"
पंकज कुमार कर्ण
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
शेर
Rajiv Vishal
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
कुछ बातें
Harshvardhan "आवारा"
'' पथ विचलित हिंदी ''
Dr Meenu Poonia
अंतरराष्ट्रीय मित्रता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
करीं हम छठ के बरतिया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
* बेवजहा *
Swami Ganganiya
'The Republic Day '- in patriotic way !
Buddha Prakash
यादों की परछाइयां
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम की राह पर-56💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
मां ने।
Taj Mohammad
प्रयोजन
Shiva Awasthi
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
बेटियां
Shriyansh Gupta
Loading...