Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

बादल की रेख

भारी बरखा है कहीं , बूँद तरसते लोग
सावन का क्या दोष है , सबके अपने जोग
सबके अपने जोग , बना चाहे सब राजा
भूल सनातन धर्म , काट डाले तरु ताजा
कह कवि नंदन देव , घिरे कैसे जलधारी
लुटा धरा – श्रृंगार , हुई पीड़ा मन भारी
देवकीनंदन

465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा ड्यूटी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
"तू-तू मैं-मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
जब मैं परदेश जाऊं
जब मैं परदेश जाऊं
gurudeenverma198
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
राष्ट्रीय किसान दिवस : भारतीय किसान
Satish Srijan
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
💐अज्ञात के प्रति-11💐
💐अज्ञात के प्रति-11💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
Rajesh
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
विजय कुमार नामदेव
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
*** सफ़र जिंदगी के....!!! ***
VEDANTA PATEL
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कहाँ समझते हैं ..........
कहाँ समझते हैं ..........
Aadarsh Dubey
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार प्रत्येक महीने में शुक्ल पक्ष की
Shashi kala vyas
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Akshay patel
जिंदगी
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पतंग
पतंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
अरमान
अरमान
अखिलेश 'अखिल'
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
■ अप्रैल फ़ूल
■ अप्रैल फ़ूल
*Author प्रणय प्रभात*
Perhaps the most important moment in life is to understand y
Perhaps the most important moment in life is to understand y
पूर्वार्थ
Loading...