Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*

बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)
—————————————
बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है
कालिमामय गगन, देखो क्या बात है
यह हवा मस्त मौसम है जादू भरा
भीगती देह-मन, आज बरसात है
—————————————
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
तमन्ना थी मैं कोई कहानी बन जाऊॅ॑
VINOD CHAUHAN
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*Author प्रणय प्रभात*
3087.*पूर्णिका*
3087.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
सजाया जायेगा तुझे
सजाया जायेगा तुझे
Vishal babu (vishu)
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
बेवफा
बेवफा
RAKESH RAKESH
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
ईश्वर से साक्षात्कार कराता है संगीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आत्मा शरीर और मन
आत्मा शरीर और मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनी अपनी सोच
अपनी अपनी सोच
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
!............!
!............!
शेखर सिंह
"तुम्हारे रहने से"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ Rãthí
सीप से मोती चाहिए तो
सीप से मोती चाहिए तो
Harminder Kaur
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
एकतरफा सारे दुश्मन माफ किये जाऐं
Maroof aalam
Loading...