Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

बात

कुछ कहते कहते, कुछ सुनते सुनते ,
उम्र बीत गई ,कुछ सहते सहते,
बात कभी बन गई ,कभी बिगड़ गई,
कभी बतंगड़ बन गई,
कुछ कही, कभी अनकही,
दूर तक गई,
कभी लग गई , कभी दिल में
चुभ कर रह गई,
कभी समझ ना आ सकी,
कभी समझा गई,
कभी सटीक, कभी दोहरी,
होकर रह गई,
कभी भड़का गई,
कभी बहका गई,
कभी लड़ गई,
कभी लड़वा गई,
कभी पास ले आई,
कभी दूर कर गई,
कभी बसा गई ,
कभी उजाड़ कर रख गई,
कभी आसमान पर बिठा गई,
कभी धरती पर गिरा गई,
कभी उलझा कर रख गई,
कभी उलझन सुलझा गई,
कभी दिली सुकून दे गई,
कभी दिल जला गई,
इन बातों बातों के चक्कर में,
ज़िंदगी गुज़र कर रह गई।

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
फिर मिलेंगें
फिर मिलेंगें
साहित्य गौरव
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
#प्रतिनिधि_गीत_पंक्तियों के साथ हम दो वाणी-पुत्र
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
मेरी ज़िन्दगी का सबसे बड़ा इनाम हो तुम l
Ranjeet kumar patre
2903.*पूर्णिका*
2903.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"शाख का पत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
स्त्रीलिंग...एक ख़ूबसूरत एहसास
Mamta Singh Devaa
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
मन की बातें , दिल क्यों सुनता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
गीत
गीत
सत्य कुमार प्रेमी
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
💐प्रेम कौतुक-469💐
💐प्रेम कौतुक-469💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या दिखेगा,
क्या दिखेगा,
pravin sharma
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
वो इक नदी सी
वो इक नदी सी
Kavita Chouhan
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कितने भारत
कितने भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
Loading...