Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

*बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)*

बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे (हिंदी गजल)
________________________
1)
बात सही है खाली हाथों, दुनिया से सब जाऍंगे
किंतु यहॉं कंगाल रहे जो, सोचो क्या जी पाऍंगे
2)
सिर्फ मोह-माया है पैसा, धरा यहीं रह जाएगा
प्रवचनकर्ता इसे बताने, लाखों लेकर आऍंगे
3)
इज्जत पैसों से होती है, रखो जेब में थोड़ा तो
अच्छे लगते वही लोग हैं, पेंशन जो घर लाऍंगे
4)
चिकने-चुपड़े मुखड़े वाले, अक्सर धोखा देते हैं
ठगने वाले मीठी-मीठी, बातें खूब बनाऍंगे
5)
धोखा खाने का मतलब है, तुम में कुछ सीधापन है
जो विश्वास करेंगे जग का, वह ही धोखा खाऍंगे
6)
बहला-फुसला कर जो तुमसे, रुपए लेने आए हैं
अगर सफल हो गए देखना, नजरे सदा चुराऍंगे
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एकीकरण की राह चुनो
एकीकरण की राह चुनो
Jatashankar Prajapati
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेहनत का फल
मेहनत का फल
Pushpraj Anant
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
गुजरा ज़माना
गुजरा ज़माना
Dr.Priya Soni Khare
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
You come in my life
You come in my life
Sakshi Tripathi
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
खुश होना नियति ने छीन लिया,,
पूर्वार्थ
2939.*पूर्णिका*
2939.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
कोहिनूराँचल
कोहिनूराँचल
डिजेन्द्र कुर्रे
"दूरी के माप"
Dr. Kishan tandon kranti
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Meri Jung Talwar se nahin hai
Meri Jung Talwar se nahin hai
Ankita Patel
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
नन्हीं सी प्यारी कोकिला
जगदीश लववंशी
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
शायरों के साथ ढल जाती ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
मां जैसा ज्ञान देते
मां जैसा ज्ञान देते
Harminder Kaur
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
इसलिए कुछ कह नहीं सका मैं उससे
gurudeenverma198
हमने भी ज़िंदगी को
हमने भी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
काश
काश
Sidhant Sharma
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
एक बेहतर जिंदगी का ख्वाब लिए जी रहे हैं सब
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...