Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

“बाजरे का जायका”

“बाजरे का जायका”
बेसब्री से मीनू पूनिया तो करती
सर्द ऋतू के मौसम का इंतजार
जब धुंध थोड़ी सी आने लगेगी
आएगी तभी बाजरे की बहार,
गांव वालों का पसंदीदा भोजन
बाजरे की रोटी सबके मन भाती
लकड़ी, उपलों से आग जलाकर
मीनू चूल्हे पर गरम रोटी बनाती,
चूल्हे की बेवंडी से निकलते ही
गरम रोटी हम थाली में सजाते
गाजर के रायते का स्वाद अलग
अलूणी घी में रोटी चूर कर खाते,
राज की पसंद बाजरे की खिचड़ी
घणा सारा घी डाल मिलकर खाते
दही संग रोटी और खिचड़ी सुबह
रानू रोमी भी खुश हो कर खाते।

Language: Hindi
1 Like · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
बेटी को जन्मदिन की बधाई
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
अधूरा ज्ञान
अधूरा ज्ञान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सच्ची दोस्ती -
सच्ची दोस्ती -
Raju Gajbhiye
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
बहुजन दीवाली
बहुजन दीवाली
Shekhar Chandra Mitra
उसका आना
उसका आना
हिमांशु Kulshrestha
विश्व कप-2023 फाइनल
विश्व कप-2023 फाइनल
दुष्यन्त 'बाबा'
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
कवि दीपक बवेजा
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
बुंदेली दोहा- गरे गौ (भाग-1)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
परीक्षा
परीक्षा
Er. Sanjay Shrivastava
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*करिश्मा है ये कुदरत का, हमें मौसम बताता है (मुक्तक)*
*करिश्मा है ये कुदरत का, हमें मौसम बताता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बीती रात मेरे बैंक खाते में
बीती रात मेरे बैंक खाते में
*Author प्रणय प्रभात*
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...