Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2023 · 1 min read

बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।

मुक्तक – पुस्तक मेला

बहुत दिनों से सोचा था, जाएंगे पुस्तक मेले में।
संग सहेली आफिस के सब, पहुंचे पुस्तक मेले में।
चाट पकौड़े खाए, पूरी मौज हुई क्या मेला था,
दूर किताबों से सब थे, जो आए पुस्तक मेले में।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
कहाँ से लाऊँ वो उम्र गुजरी हुई
डॉ. दीपक मेवाती
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारा शहर अजनबी हो गया
सारा शहर अजनबी हो गया
Surinder blackpen
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
माँ
माँ
Sidhartha Mishra
युवा
युवा
Akshay patel
जय जगदम्बे जय माँ काली
जय जगदम्बे जय माँ काली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जितने चंचल है कान्हा
जितने चंचल है कान्हा
Harminder Kaur
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
जिसने अपने जीवन में दर्द नहीं झेले उसने अपने जीवन में सुख भी
Rj Anand Prajapati
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
■ हुडक्चुल्लू ..
■ हुडक्चुल्लू ..
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
सीख गुलाब के फूल की
सीख गुलाब के फूल की
Mangilal 713
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
मूर्ख बनाने की ओर ।
मूर्ख बनाने की ओर ।
Buddha Prakash
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
वो दिखाते हैं पथ यात्रा
प्रकाश
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
कहना
कहना
Dr. Mahesh Kumawat
Loading...