Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

बहकने दीजिए

* गीतिका *
~~
आज कदमों को बहकने दीजिए।
चाहतों को पंख लगने दीजिए।

है खुला आकाश नीला सामने।
मुक्त पाखी को विचरने दीजिए।

घिर रहे जब मेघ श्यामल हर तरफ।
अब जरा पानी बरसने दीजिए।

चोट लगती राह में रुकना नहीं।
वक्त के सब घाव भरने दीजिए।

कौन है ठोकर जिसे लगती नहीं।
अब स्वयं को भी सँभलने दीजिए।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १८/१०/२०२२
मण्डी (हिमाचल प्रदेश)

1 Like · 1 Comment · 280 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
कड़वा सच~
कड़वा सच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
★मां ★
★मां ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
शुद्धिकरण
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
Manisha Manjari
बातें की बहुत की तुझसे,
बातें की बहुत की तुझसे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम
पकड़ मजबूत रखना हौसलों की तुम "नवल" हरदम ।
शेखर सिंह
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
मेरी हैसियत
मेरी हैसियत
आर एस आघात
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन का एक चरण
जीवन का एक चरण
पूर्वार्थ
🌲प्रकृति
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
किरदार हो या
किरदार हो या
Mahender Singh
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
आज के दौर के मौसम का भरोसा क्या है।
Phool gufran
■ खाने दो हिचकोले👍👍
■ खाने दो हिचकोले👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
खुश्क आँखों पे क्यूँ यकीं होता नहीं
sushil sarna
कुछ
कुछ
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
2534.पूर्णिका
2534.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...