Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

बसंत

आयो आयो रे ऋतु मनभlवन पर्व बसंत!
मां वीणा वादिनी की ऋचायें हैं दिग-दिगंत!!
पीली-पीली सरसों फूली,खिले कुसुम अनंत!
प्रेम-पपीहा कूके मन में,भूले समस्याये ज्वलन्त!!
तृतीय विश्व युद्ध की मुडेर पर बैठा मानव भयाक्रातं!
विश्व बन्धुत्व स्थlपित हो, बैर भाव का हो अंत तुरंत!!
शिछा -दीछा विफल है,यदि मानव मानव का करता अंत!
वसुधैव कुटुम्बकम की भावना स्थापित करे मोदी सा संत!!
बोधिसत्व कस्तूरिया एडवोकेट,कवि,पत्रकार
202 नीरव निकुजं,फेस-2.सिकंदरा,आगरा -282007
मो:9412443093

Language: Hindi
69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Bodhisatva kastooriya
View all
You may also like:
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
मच्छर
मच्छर
लक्ष्मी सिंह
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
जब भी सोचता हूं, कि मै ने‌ उसे समझ लिया है तब तब वह मुझे एहस
पूर्वार्थ
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
जीने के तकाज़े हैं
जीने के तकाज़े हैं
Dr fauzia Naseem shad
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Omee Bhargava
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
💐प्रेम कौतुक-267💐
💐प्रेम कौतुक-267💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंक़लाब आएगा
इंक़लाब आएगा
Shekhar Chandra Mitra
कामयाबी का जाम।
कामयाबी का जाम।
Rj Anand Prajapati
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
ओ माँ मेरी लाज रखो
ओ माँ मेरी लाज रखो
Basant Bhagawan Roy
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
कोई भी नही भूख का मज़हब यहाँ होता है
Mahendra Narayan
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
कैसा गीत लिखूं
कैसा गीत लिखूं
नवीन जोशी 'नवल'
सन्यासी
सन्यासी
Neeraj Agarwal
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
Loading...