Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 1 min read

बलराम विवाह

रेवतक राजा सतयुग माही।
सुता रेवती जैसी कोई नही।।
गुणी सयानी शिक्षित नारी।
सुयोग्य वर की चिंता भारी।।

भूपति ने सकल जग छाना।
मिलहि न वर सुता सम जाना।।
ब्रह्मदेव ही अब एक सहारा।
तनया तात ब्रह्मलोक पधारा।।

तहाँ चलत रही वेद गंधर्व गाना।
क्षण काल भूप लिए विश्रामा।।
अवकाश पावहिं करी प्रणामा।
कही व्यथा अभिप्राय जाना।।

राजन से बोले ब्रह्मा मुस्काना।
युग सहस्त्र बीते सोई जाना।।
जिन के किन्ही योग्य विचारा।
तेही सब के काल संहारा।।

भू पर बलदेव श्रेष्ठ सुकुमारा।
कृष्ण भ्रात शेषनाग अवतारा।।
सुनी प्रसन्न नृप भूलोक पधारे।
जहँ त्रेता बीत लगा द्वापर द्वारे।।

भई चकित देख पृथ्वी नजारा।
मनुज जीव क़द छोट अकारा।।
छोटे क़द के बलदेव लाला।
तिन्ही अपेक्षा रेवती लंबी बाला।।

चिंतित विवाह कैसे होई विचारे।
तनया ले बलदेव के समुख ठारे।।
हल प्रहार से शिरोस्थल दबाया।
रेवती की छोटी कर दी काया।।

मुदित मन रेवती दाऊ परणाई।
तात प्रसन्नता बरनी न जाई।।
सुता विवाह होई हर्षित नयना।
बद्रिका आश्रम कियो प्रस्थाना।।

रेखांकन।रेखा

Language: Hindi
1 Like · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ख़्वाहिशों की दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
हमने तो उड़ान भर ली सूरज को पाने की,
Vishal babu (vishu)
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
दरवाज़ों पे खाली तख्तियां अच्छी नहीं लगती,
पूर्वार्थ
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
पूर्बज्ज् का रतिजोगा
Anil chobisa
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
चाहत ए मोहब्बत में हम सभी मिलते हैं।
Neeraj Agarwal
जख्म भरता है इसी बहाने से
जख्म भरता है इसी बहाने से
Anil Mishra Prahari
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
मौसम ने भी ली अँगड़ाई, छेड़ रहा है राग।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
अनुप्रास अलंकार
अनुप्रास अलंकार
नूरफातिमा खातून नूरी
अंधेरे आते हैं. . . .
अंधेरे आते हैं. . . .
sushil sarna
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
ठहर ठहर ठहर जरा, अभी उड़ान बाकी हैं
Er.Navaneet R Shandily
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
इतना बवाल मचाएं हो के ये मेरा हिंदुस्थान है
'अशांत' शेखर
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
■ अब भी समय है।।
■ अब भी समय है।।
*Author प्रणय प्रभात*
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
पराठों का स्वर्णिम इतिहास
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...