Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

बर्फ

बर्फ

पानी बर्फ की ठोस अवस्था
गर्मी से बचने की है व्यवस्था
खूब खेले बाल्यावस्था
उपयोग में लाए युवावस्था।
पानी की है ठोस अवस्था

0’Cसे नीचे ताप पर,
जमने की अभिक्रिया।
जल तरल वाष्पित होकर,
बैठ जाता नीचे ठोस बनकर।
पानी की है ठोस अवस्था

बर्फ रखता है सुरक्षित
खाद्य,भोज्य पदार्थ को
सुगम बनाता जलमार्ग को
पारदर्शी ,सफेद अति शोभित।
पानी की है ठोस अवस्था

गर्मी में है शान बढ़ाता
सर्दी में सौंदर्य
हर मौसम में एक – सा
मनोरम लगे जल सा
पानी की है ठोस अवस्था

रचनाकार
संतोष कुमार मिरी
प्रकृति प्रेमी कवि
शिक्षक जिला दुर्ग छत्तीसगढ़

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
दोहा त्रयी. . . . शमा -परवाना
sushil sarna
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
स्त्री एक देवी है, शक्ति का प्रतीक,
कार्तिक नितिन शर्मा
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
खुश रहोगे कि ना बेईमान बनो
खुश रहोगे कि ना बेईमान बनो
Shweta Soni
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नवीन वर्ष (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
लहज़ा तेरी नफरत का मुझे सता रहा है,
Ravi Betulwala
STABILITY
STABILITY
SURYA PRAKASH SHARMA
*मेरी रचना*
*मेरी रचना*
Santosh kumar Miri
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चांद पे हमको
चांद पे हमको
Dr fauzia Naseem shad
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
उन अंधेरों को उजालों की उजलत नसीब नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
बेशक हम गरीब हैं लेकिन दिल बड़ा अमीर है कभी आना हमारे छोटा स
Ranjeet kumar patre
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
फसल
फसल
Bodhisatva kastooriya
मेरा दिल
मेरा दिल
SHAMA PARVEEN
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
इतनी धूल और सीमेंट है शहरों की हवाओं में आजकल
शेखर सिंह
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
ज्ञान क्या है
ज्ञान क्या है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🙅एक उपाय🙅
🙅एक उपाय🙅
*प्रणय प्रभात*
निहारा
निहारा
Dr. Mulla Adam Ali
मेरा भारत देश
मेरा भारत देश
Shriyansh Gupta
Loading...