Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2023 · 1 min read

“बदलाव”

“बदलाव”

मानो या न मानो
पर समय बहुत बदल गया है,
कल तक बुरा था जो
आज वो स्टाइल बन गया है।

– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

9 Likes · 3 Comments · 309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
नारी अस्मिता
नारी अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
फिर से अपने चमन में ख़ुशी चाहिए
Monika Arora
कौन सा रास्ता अपनाओगे,
कौन सा रास्ता अपनाओगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
24/236. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/236. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
हम अपनों से न करें उम्मीद ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
योग प्राणायाम
योग प्राणायाम
surenderpal vaidya
............
............
शेखर सिंह
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
अपने ही  में उलझती जा रही हूँ,
अपने ही में उलझती जा रही हूँ,
Davina Amar Thakral
*समीक्षकों का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*समीक्षकों का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
सिर्फ औरतों के लिए
सिर्फ औरतों के लिए
Dr. Kishan tandon kranti
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
■ किसी की चाल या ख़ुद की चालबाज़ी...?
*प्रणय प्रभात*
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
Arun Kumar Yadav
जब  मालूम है  कि
जब मालूम है कि
Neelofar Khan
बोलती आँखें
बोलती आँखें
Awadhesh Singh
Loading...