Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

“बदलते रिश्ते”

“बदलते रिश्ते”
~~~~~~~~

मैं किस रिश्तों की, बात करूं;
हर रिश्ते ही, अब तो सस्ते है।
जहां कोई भी, नुकसान दिखे;
नफा हेतु ही, बदलते रिश्ते हैं।
रिश्तों में अब, कोई दम कहां;
ये तो बिखरें पड़े हैं,जहां-तहां।
सब ही,निजस्वार्थ से चलते हैं;
मौसम की तरह, अब सदा ही;
वक्त-बेवक्त , बदलते रिश्ते हैं।
एक रिश्ता होता,जब माॅं मिले;
तभी बेटा या बेटी, रहते खास;
फिर तो तभी, बदलते रिश्ते हैं;
जब रिश्तों में , आ जाए सास।
एक रिश्ता दिखे,निजभाई का;
टिके,जबतक मन भौजाई का।
हरेक भाई को,बहन याद आए;
बहना , राखी के रिश्ते निभाए।
पुत्र व माता-पिता , के रिश्ते में;
दिखती सदा,रिश्तों की गहराई;
सुपुत्र सादर करते, उनकी सेवा;
जब-तक न आए,घर में लुगाई।
अब तो,प्रायः बेटी के रिश्ते को;
कन्या-दान से भी, मिले बिदाई।
खून के ही रिश्ते सारे,होते प्यारे;
पर रिश्ते अब,बन गए हैं बेचारे।
अब रिश्तों में, न कोई प्रेम दिखे;
रिश्ते सब, सिर्फ हाथों से लिखे।
किन रिश्तों को, मैं भला बताऊं;
कैसे कहूं, किसमे मेह मिलते हैं।
मानो , बचपन में स्नेह मिलते हैं;
फिर आगे, सारे ‘बदलते रिश्ते’हैं।
“°°°°°°°°°°°°°🙏°°°°°°°°°°°°°

#स्वरचित_सह_मौलिक;
……. ✍️पंकज ‘कर्ण’
…….कटिहार(बिहार)।

Language: Hindi
122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
आज के दौर
आज के दौर
$úDhÁ MãÚ₹Yá
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
2387.पूर्णिका
2387.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
मित्रता
मित्रता
Mahendra singh kiroula
सब वर्ताव पर निर्भर है
सब वर्ताव पर निर्भर है
Mahender Singh
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
1...
1...
Kumud Srivastava
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
बुद्ध की राह में चलने लगे ।
Buddha Prakash
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कलयुगी धृतराष्ट्र
कलयुगी धृतराष्ट्र
Dr Parveen Thakur
"सम्बन्धों की ज्यामिति"
Dr. Kishan tandon kranti
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
स्नेह की मृदु भावनाओं को जगाकर।
surenderpal vaidya
रिश्तो की कच्ची डोर
रिश्तो की कच्ची डोर
Harminder Kaur
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
द्रोपदी फिर.....
द्रोपदी फिर.....
Kavita Chouhan
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...