Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-217💐

बताओ आज कैसे-कैसे याद किया हमें,
नज़ाकत थी नज़र में या दिल में एतिबार था।

©® अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
227 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करवा चौथ
करवा चौथ
VINOD KUMAR CHAUHAN
सूखा शजर
सूखा शजर
Surinder blackpen
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Ajj fir ek bar tum mera yuhi intazar karna,
Sakshi Tripathi
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
पक्षी
पक्षी
Sushil chauhan
बेटी की विदाई
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
'मृत्यु'
'मृत्यु'
Godambari Negi
आदिम परंपराएं
आदिम परंपराएं
Shekhar Chandra Mitra
अपनी यही चाहत है_
अपनी यही चाहत है_
Rajesh vyas
वैष्णों भोजन खाइए,
वैष्णों भोजन खाइए,
Satish Srijan
अंधविश्वास - कहानी
अंधविश्वास - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
होली
होली
Dr. Kishan Karigar
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"आज मैंने"
Dr. Kishan tandon kranti
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ना रहा यकीन तुझपे
ना रहा यकीन तुझपे
gurudeenverma198
एक प्रश्न
एक प्रश्न
komalagrawal750
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
ए- अनूठा- हयात ईश्वरी देन
AMRESH KUMAR VERMA
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
किन्नर-व्यथा ...
किन्नर-व्यथा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
2409.पूर्णिका
2409.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सत्ता व सियासत"
*Author प्रणय प्रभात*
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोजी रोटी के क्या दाने
रोजी रोटी के क्या दाने
AJAY AMITABH SUMAN
मौन शब्द
मौन शब्द
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
अयोग्य व्यक्ति द्वारा शासन
Paras Nath Jha
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
Loading...