Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

बढ़ रही नारी निरंतर

** गीतिका **
~~
बढ़ रही नारी निरंतर तोड़ हर दीवार।
और करती जा रही है स्वप्न सब साकार।

दूर उससे है नहीं अब ज्ञान और विज्ञान।
लक्ष्य नूतन छू रही है देखिए हर बार।

अब कदम सीमित नहीं हैं चल पड़े निज राह।
कल्पनाएं ले रही हैं नित्य नव आकार।

दूर कर देती स्वयं ही मार्ग के अवरोध।
हर स्थिति में पहुंच जाती मंजिलों के पार।

खूब करती मन लगाकर शौर्य का हर कार्य।
देश सेवा के लिए मन में भरा है प्यार।

नारियां दुहरा रही प्राचीन फिर इतिहास।
अब नहीं स्वीकार कर सकती किसी से हार।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

2 Likes · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
गणित का एक कठिन प्रश्न ये भी
शेखर सिंह
🙅आम सूचना🙅
🙅आम सूचना🙅
*Author प्रणय प्रभात*
स्त्री मन
स्त्री मन
Surinder blackpen
" मुझे सहने दो "
Aarti sirsat
कोई तो है
कोई तो है
ruby kumari
यह जो आँखों में दिख रहा है
यह जो आँखों में दिख रहा है
कवि दीपक बवेजा
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
न जाने कहा‌ँ दोस्तों की महफीले‌ं खो गई ।
Yogendra Chaturwedi
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
Aruna Dogra Sharma
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं अपना सबकुछ खोकर,
मैं अपना सबकुछ खोकर,
लक्ष्मी सिंह
"मैं एक कलमकार हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
रोज आते कन्हैया_ मेरे ख्वाब मैं
कृष्णकांत गुर्जर
जो दिल के पास होता है (हिंदी गजल/गीतिका )
जो दिल के पास होता है (हिंदी गजल/गीतिका )
Ravi Prakash
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
Loading...