Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)

बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)
——————————————————–
बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार
ऑंखों के भीतर छिपा , प्रेमराग का सार
प्रेमराग का सार , नयन मतवाले काले
बच पाता तब कौन , सुंदरी डोरे डाले
कहते रवि कविराय ,भाग्य लाया वह गढ़कर
जाता है जो डूब , नयन में दो बढ़-बढ़कर
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

383 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
ख़यालों के परिंदे
ख़यालों के परिंदे
Anis Shah
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आवारा पंछी / लवकुश यादव
आवारा पंछी / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अहाना छंद बुंदेली
अहाना छंद बुंदेली
Subhash Singhai
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
*फागुन का बस नाम है, असली चैत महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
दोहे - नारी
दोहे - नारी
sushil sarna
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
■ मुक्तक
■ मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
चार दिन की जिंदगी मे किस कतरा के चलु
Sampada
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...