Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2017 · 1 min read

बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता

बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता।
मुकद्दर बदलने के वास्ते कोई खड़ा नहीं होता।।

समुद्री लहरों से सीख लो, बढ़ना और घटना।
कि वक्त बदलता है पलभर में, और बड़ा हमेशा ही बड़ा नहीं होता।।

आलोक प्रतापगढ़ी

Language: Hindi
Tag: शेर
479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब किसी से
अब किसी से
Dr fauzia Naseem shad
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
फितरत ना बदल सका
फितरत ना बदल सका
goutam shaw
कली को खिलने दो
कली को खिलने दो
Ghanshyam Poddar
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
अंधेरे में भी ढूंढ लेंगे तुम्हे।
Rj Anand Prajapati
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
सर्दी और चाय का रिश्ता है पुराना,
Shutisha Rajput
मिल ही जाते हैं
मिल ही जाते हैं
Surinder blackpen
दोहे
दोहे "हरियाली तीज"
Vaishali Rastogi
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
दे दो, दे दो,हमको पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
प्यार में ना जाने क्या-क्या होता है ?
Buddha Prakash
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*Author प्रणय प्रभात*
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
खाई रोटी घास की,अकबर को ललकार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सुकून
सुकून
अखिलेश 'अखिल'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-439💐
💐प्रेम कौतुक-439💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
Loading...