Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

बड़ा भाई बोल रहा हूं।

हलो हलो हां भाई छोटे तेरा बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बहुत अर्से बाद में दिल की गहराई से बोल रहा हूं।।

याद आए आज मुझे भी तेरे बचपन वाले किस्से।
बचत अपनी बचा कर देता था तुझे बचत के पैसे ।।
दुकान पर जाकर चीजों से भरी हुई वह झोली ।
बचपन की यादों में जाकर गोली खेल रहा हूं ।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे…………………………….

याद आती है मुझे वह गांव वाली धूल भरी फिरनी ।
मां दंरात से काटती थी वह हरे साग वाली चीरनी।।
एक थाली में खाते टिंडी सरसों बाद में वो हिंगोली।
बचपन में खाए हुए हलवे की मिठाई बोल रहा हूं।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे……………………………

याद तुझे है क्या छोटे नत्थू माली के बाग में जाना।
आमों की टहनी पर बैठकर कच्चे आमों को चुराना।।
उस रामलाल के खेत में जाकर खरबूजे को खाना ।
तुझे बचाने के लिए कमर वाली पिटाई बोल रहा हूं।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे…………………………….

याद तुम्हें है कंधो पर बैठा दिखाना गांव वाला मेला।
पुरानी चप्पलों को काट बनाता तेरा रबड़ वाला ठेला।।
खेतो वाली मंढेरो पर जा भंभीरी धागा बांध उड़ाना।
आज उसी रंगीन भंभीरी वाली रफ्तार से बोल रहा हूं।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे………………………………..

याद मुझे है भाई तेरा हर बचपन का सफर सुहाना।
जब शहर से वापस आओ मेरा वही बचपन लाना।।
भाई की बाजू तरस रही है मेरी बाजू बन कर आना ।
हां भाई हां मैं भी सतपाल छोटा भाई बोल रहा हूं।।
हेलो हेलो हां भाई छोटे……………………….

सतपाल चौहान

Language: Hindi
2 Likes · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
कर दिया
कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
भरी आँखे हमारी दर्द सारे कह रही हैं।
शिल्पी सिंह बघेल
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
आवाहन
आवाहन
Shyam Sundar Subramanian
क्या ऐसी स्त्री से…
क्या ऐसी स्त्री से…
Rekha Drolia
रावण का परामर्श
रावण का परामर्श
Dr. Harvinder Singh Bakshi
अश्रु
अश्रु
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
Unrequited
Unrequited
Vedha Singh
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जल बचाकर
जल बचाकर
surenderpal vaidya
■ कड़वा सच...
■ कड़वा सच...
*प्रणय प्रभात*
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
भरी रंग से जिंदगी, कह होली त्योहार।
Suryakant Dwivedi
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
हार
हार
पूर्वार्थ
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
Loading...