Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

बचपन

लगे मासूम सा बचपन, बड़ा भोला निराला है|
बहुत नादान नटखट सा, भरा मुख पे उजाला है|

उड़े मन बादलों पर ये,सुगंधित हैं सभी बातें|
नहीं चिंता ज़माने की, खुशी के गीत हैं गातें|
भरे खुश्बू जगत में जो, यहीं वो पुष्प माला है|
लगे मासूम सा बचपन, बड़ा भोला निराला है|

हठी, चंचल, सवाली तो, कभी कोमल दुलारे हैं|
करें मनमर्ज़ियाँ हरपल , नयन भर के सितारे हैं|
भरे मुस्कान की मोती, खुशी का एक प्याला है|
लगे मासूम सा बचपन, बड़ा भोला निराला है|

तरुण काया सुकोमल सी, हृदय निर्मल सुहाना है|
करें अठखेलियाँ हर दम, लबों पर इक बहाना है|
महकता फूल सा बचपन बड़ा मद मस्त आला है
लगे मासूम सा बचपन, बड़ा भोला निराला है|
वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बेदर्द जमाने में"
Dr. Kishan tandon kranti
शहर बसते गए,,,
शहर बसते गए,,,
पूर्वार्थ
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
♥️♥️ Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
■ बड़ा सवाल ■
■ बड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
परम्परा को मत छोडो
परम्परा को मत छोडो
Dinesh Kumar Gangwar
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
बिना कोई परिश्रम के, न किस्मत रंग लाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
Man has only one other option in their life....
Man has only one other option in their life....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
कौशल कविता का - कविता
कौशल कविता का - कविता
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
अकेले
अकेले
Dr.Pratibha Prakash
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
*BOOKS*
*BOOKS*
Poonam Matia
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
*होइही सोइ जो राम रची राखा*
Shashi kala vyas
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
*सुना है आजकल हाकिम से, सेटिंग का जमाना है【हिंदी गजल/गीतिका】
*सुना है आजकल हाकिम से, सेटिंग का जमाना है【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
Loading...