Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

बचपन

एक बचपन अपने अधनंगे बदन को
मैले कुचैले कपड़ों मे समेटता ,
अपनी फटी बाँह से
बहती नाक को पौछता ,
बचा खुचा खाकर भूखे पेट सर्द रातों में
बुझी भट्टी की राख में गर्मी को खोजता ,
मुँह अन्धेरे उठकर अपने नन्हे हाथों से
कढ़ाई को माँजता ,
और यह सोचता कि वह भी
बड़ा होकर मालिक बनेगा ,
तब अपने से बचपन को
अधनंगा भूखा न रहने देगा ,
न ठिठुरने देगा उन्हे सर्द रातों को ,
और न फटने देगा उनके नन्हे हाथों को ,
तभी भंग होती है तंद्रा उसकी ,
जब पड़ती है एक लात मालिक की ,
और आती है आवाज़ ,
क्यों बे दिन मे सोता है ?
तब पथराई आँखें लिये वह
दिल ही दिल मे रोता है ,
ग्राहकों की आवाज़ पर भागता है ,
कल के इन्तज़ार मे यह सब कुछ ,
सहता है ! सहता है ! सहता है !

1 Like · 2 Comments · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
"" *सौगात* ""
सुनीलानंद महंत
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
माँ।
माँ।
Dr Archana Gupta
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
आदत से मजबूर
आदत से मजबूर
Surinder blackpen
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
क्यों आज हम याद तुम्हें आ गये
gurudeenverma198
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी तो धड़कनें भी
मेरी तो धड़कनें भी
हिमांशु Kulshrestha
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हम सम्भल कर चलते रहे
हम सम्भल कर चलते रहे
VINOD CHAUHAN
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
"प्रेमको साथी" (Premko Sathi) "Companion of Love"
Sidhartha Mishra
"उम्र"
Dr. Kishan tandon kranti
करुणा का भाव
करुणा का भाव
shekhar kharadi
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
2723.*पूर्णिका*
2723.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कमरछठ, हलषष्ठी
कमरछठ, हलषष्ठी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...