Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2016 · 1 min read

बंधन

बँधन

भँवरा देख मुसकराने लगा
कलियन से बतराने लगा
मृदु मुस्कान बिखेर
कुछ कुछ सकुचाने लगा
आ जाओ प्रिये
दिवस का अवसान हो चला
रात आँचल बिखेरती
आओ सिमट कुछ
शरारतें करें

कली समझाने यूँ लगी
देख भँवरे
मैं हूँ कोमल कान्त
अभी पट खोल फूल भी न बनी
जवानी की नादानी
हो सकती है मंहगी
मेरी कुमारिता को तोड़ सकती है

भँवरे तुम बौराये बादल हो
भटके भूले से खो जाते हो
किशोरावस्था की दहलीज में हो
मैं पावन गंगा की धारा
संसर्ग से मलिन हो जाऊँगी
विस्तार पा नये जीवन में
मैं आ जाऊँगी

वृक्ष तोड़ फेंक देगा मुझको
जीवन भर के लिए
नाता तोड़ देगा
दुहिता तो त्यागी जायेगी
जमाने से निगाहें चुरा जायेंगी
तेरा दामन साफ सुथरा
ही कहलायेगा

मैं हमेशा के लिए
ही ठुकरायी जाऊँगी
प्यार में नादानी अच्छी होती है
सीमा में हर चीज बँधी होती है
प्यार पाने का है नाम
स्वार्थ पिपासा करती है बदनाम

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
74 Likes · 304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
कितना लिखता जाऊँ ?
कितना लिखता जाऊँ ?
The_dk_poetry
संस्कृत के आँचल की बेटी
संस्कृत के आँचल की बेटी
Er.Navaneet R Shandily
दोहा त्रयी. . . सन्तान
दोहा त्रयी. . . सन्तान
sushil sarna
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हम उनसे नहीं है भिन्न
हम उनसे नहीं है भिन्न
जगदीश लववंशी
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
माता के नौ रूप
माता के नौ रूप
Dr. Sunita Singh
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक होशियार पति!
एक होशियार पति!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
मनी प्लांट
मनी प्लांट
कार्तिक नितिन शर्मा
मज़हब नहीं सिखता बैर
मज़हब नहीं सिखता बैर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिनकर की दीप्ति
दिनकर की दीप्ति
AJAY AMITABH SUMAN
💐प्रेम कौतुक-233💐
💐प्रेम कौतुक-233💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*जिंदगी की अर्थवत्ता इस तरह कुछ खो गई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
■ “दिन कभी तो निकलेगा!”
*Author प्रणय प्रभात*
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
Loading...