Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#7 Trending Author
Nov 24, 2016 · 1 min read

बंधन

बँधन

भँवरा देख मुसकराने लगा
कलियन से बतराने लगा
मृदु मुस्कान बिखेर
कुछ कुछ सकुचाने लगा
आ जाओ प्रिये
दिवस का अवसान हो चला
रात आँचल बिखेरती
आओ सिमट कुछ
शरारतें करें

कली समझाने यूँ लगी
देख भँवरे
मैं हूँ कोमल कान्त
अभी पट खोल फूल भी न बनी
जवानी की नादानी
हो सकती है मंहगी
मेरी कुमारिता को तोड़ सकती है

भँवरे तुम बौराये बादल हो
भटके भूले से खो जाते हो
किशोरावस्था की दहलीज में हो
मैं पावन गंगा की धारा
संसर्ग से मलिन हो जाऊँगी
विस्तार पा नये जीवन में
मैं आ जाऊँगी

वृक्ष तोड़ फेंक देगा मुझको
जीवन भर के लिए
नाता तोड़ देगा
दुहिता तो त्यागी जायेगी
जमाने से निगाहें चुरा जायेंगी
तेरा दामन साफ सुथरा
ही कहलायेगा

मैं हमेशा के लिए
ही ठुकरायी जाऊँगी
प्यार में नादानी अच्छी होती है
सीमा में हर चीज बँधी होती है
प्यार पाने का है नाम
स्वार्थ पिपासा करती है बदनाम

डॉ मधु त्रिवेदी

74 Likes · 200 Views
You may also like:
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
श्री राम
नवीन जोशी 'नवल'
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
पापा
Kanchan Khanna
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता का दर्द
Nitu Sah
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
You are my life.
Taj Mohammad
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बनकर जनाजा।
Taj Mohammad
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️कोरोना✍️
"अशांत" शेखर
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मरने के बाद।
Taj Mohammad
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नमन!
Shriyansh Gupta
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
Loading...