Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2020 · 1 min read

बंद हैं भारत में विद्यालय.

बंद है भारत मे विद्यालय.
मंदिर-मस्जिद-गुरुद्वारा सब शांत,खुले मदिरालय..

लाकडाउन में घर पर बैठे,पत्नी आधी सूखी.
हीरोइन बर्तन माँजे पर, बर्तनबाली भूखी..
घर में बैठे नर-नारी भर रहे नित्य शौचालय…
बंद हैं भारत में विद्यालय….

पति – पत्नी के मध्य आ गयी,कोरोना की खाई.
भूल गये श्रृंगार, संक्रमण की आँधी में भाई..
भूखे-त्रस्त दिख रहे भै़या,सचमुच में वेश्यालय…
बंद हैं भारत में विद्यालय….

कोरोना- योद्धा पर पत्थर फेक रहे जामाती.
राष्ट्र-प्रेम की सुंदर बाती नफरत से बुझ जाती..
स्वयं सुधरिए जग सुधरेगा, जैसा बनिए आलय…
बंद हैं भारत में विद्यालय….
…….
पं बृजेश कुमार नायक
सुभाष नगर, कोंच,जिला-जालौन,उप्र.
एवं
डी-75 सनफ्रान अशोकसिटी,झाँसी,उ.प्र.
पिन-284128
मो-9956928367

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 464 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
कोई तो है
कोई तो है
ruby kumari
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
"सच्ची जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार की भाषा
प्यार की भाषा
Surinder blackpen
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
हे!महादेव है नमन तुम्हें,
Satish Srijan
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह तेरा चेहरा हसीन
यह तेरा चेहरा हसीन
gurudeenverma198
आम जन को 80 दिनों का
आम जन को 80 दिनों का "प्रतिबंध-काल" मुबारक हो।
*Author प्रणय प्रभात*
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
2) “काग़ज़ की कश्ती”
2) “काग़ज़ की कश्ती”
Sapna Arora
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
घर में दो लाचार (कुंडलिया)*
घर में दो लाचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मैं तो महज बुनियाद हूँ
मैं तो महज बुनियाद हूँ
VINOD CHAUHAN
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
हे माँ अम्बे रानी शेरावाली
Basant Bhagawan Roy
जय भवानी, जय शिवाजी!
जय भवानी, जय शिवाजी!
Kanchan Alok Malu
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
देर तक मैंने आईना देखा
देर तक मैंने आईना देखा
Dr fauzia Naseem shad
जब दिल ही उससे जा लगा..!
जब दिल ही उससे जा लगा..!
SPK Sachin Lodhi
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
बड़ी ठोकरो के बाद संभले हैं साहिब
Jay Dewangan
भारत माता
भारत माता
Seema gupta,Alwar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mayank Kumar
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
बादल
बादल
Shutisha Rajput
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
Loading...