Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

बंदर मामा

बंदर मामा

बन्दर मामा पहन पाजामा
ठुमक-ठुमक कर नाचे मामा.
सिर हिलाते, कमर नचाते
गीत मगर गा नहीं पाते.
उछल-कूद कर नाच दिखाते
उधम मचाते खींशे निपोरते.
बंदरिया छेड़ते कभी न शर्माते
सबको हँसाते कभी न थकते.
बड़े नकलची बन्दर मामा
सबके मन को भाते बन्दर मामा.
—————-
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

167 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
** लगाव नहीं लगाना सखी **
** लगाव नहीं लगाना सखी **
Koमल कुmari
#एक_ही_तमन्ना
#एक_ही_तमन्ना
*Author प्रणय प्रभात*
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
फितरत
फितरत
Surya Barman
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
*जिंदगी से हर किसी को, ही असीमित प्यार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
अन्हारक दीप
अन्हारक दीप
Acharya Rama Nand Mandal
ख़्वाबों की दुनिया
ख़्वाबों की दुनिया
Dr fauzia Naseem shad
पैगाम डॉ अंबेडकर का
पैगाम डॉ अंबेडकर का
Buddha Prakash
बलिदान
बलिदान
Shyam Sundar Subramanian
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Neha
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
चार लोग क्या कहेंगे?
चार लोग क्या कहेंगे?
करन ''केसरा''
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
वैवाहिक चादर!
वैवाहिक चादर!
कविता झा ‘गीत’
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
ग़ज़ल/नज़्म - मैं बस काश! काश! करते-करते रह गया
अनिल कुमार
शेर
शेर
Monika Verma
दिलों का हाल तु खूब समझता है
दिलों का हाल तु खूब समझता है
नूरफातिमा खातून नूरी
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
"प्यार में तेरे "
Pushpraj Anant
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...