Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

फौजी की पत्नी

फौजी की पत्नी बनी,सात वचन के साथ।।
नींद गवाईं मैं पिया,जगी तुम्हारे साथ।।

अपने सपने छोड़ कर,रँगी तुम्हारे रंग।
लेकिन तुम लड़ते रहे,मुझे छोड़ कर जंग।।

डटे रहे तुम देश का,बनकर पहरेदार।
तब मेरे ऊपर रहा,परिवारों का भार।।

जब रहते थे तुम वहाँ,सरहद पर तैनात।
सास ससुर को पूजती,खडी़ रही दिन रात।।

ननदों के नखरे सहे,देवर को सत्कार।
जो भी मेरे पास था,दिया उसे उपहार।।

अपने मन को मार कर,करती रहती काम।
क्षण भर भी मिलता नहीं,मुझे तनिक आराम।।

उलझन में उलझी हुई,सदा रही बेहाल।
तेरी हर तकलीफ में,बनी तूम्हारी ढ़ाल।।

तू सैनिक है देश का,मातृभूमि का भक्त।
मेरा भी जीवन रहा,बहुत अधिक ही सख्त।।

बहते आँसू रोक कर,बनी रही पाषाण।
तेरे बगैर ज़िन्दगी,लगती है बेजान।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
1 Like · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
"तकलीफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
ये दुनिया है आपकी,
ये दुनिया है आपकी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
छा जाओ आसमान की तरह मुझ पर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
2995.*पूर्णिका*
2995.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
जिसकी जुस्तजू थी,वो करीब आने लगे हैं।
करन ''केसरा''
यक्ष प्रश्न है जीव के,
यक्ष प्रश्न है जीव के,
sushil sarna
*नल (बाल कविता)*
*नल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
मेरी हथेली पर, तुम्हारी उंगलियों के दस्तख़त
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम अगर कांटे बोओऐ
तुम अगर कांटे बोओऐ
shabina. Naaz
कदम बढ़े  मदिरा पीने  को मदिरालय द्वार खड़काया
कदम बढ़े मदिरा पीने को मदिरालय द्वार खड़काया
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
बरसात
बरसात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
Suryakant Dwivedi
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
सुनाऊँ प्यार की सरग़म सुनो तो चैन आ जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
आंखों में
आंखों में
Surinder blackpen
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
सूरज की किरणों
सूरज की किरणों
Sidhartha Mishra
Loading...