Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2023 · 2 min read

“फेसबूक का व्यक्तित्व”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
==================
आने की खबर सबको होती है
पर जानेकी भनक नहीं होती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
कभी आप गाते हैं
कभी मुसकुराते हैं
कभी अपनी बातों
से दिल लगाते हैं
उनकी अनुपस्थिति खलती है
जिंदगी अधूरी सबको लगती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
कोई कविताओं से
दिल बहलाता हैं
कोई कहानियों में
कुछ कह जाता है
उनकी बातें अच्छी लगती है
सबके हृदय को छू जाती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
इतिहास कहे कोई
भूगोल दिखाता है
अपनी टिप्पणी से
सबको हँसता है
यादें सब दिन उनकी आती है
न रहने पर याद बहुत आती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
जो बातें सहजता
से कुछ कहते हैं
नेता भी समझकर
नीतियाँ बदलते हैं
उनकी बातों में जान आती है
लोगों को फिर समझ आती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
नया कुछ करना
जीवंत बने रहना
इस तरह ही हमें
सबके बीच रहना
मौनता सिर्फ शाम को दर्शाती है
यहाँ दुनियाँ भी मौन हो जाती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है
काम ऐसा ही करें
याद सब कोई करे
हम रहें या ना रहें
इतिहास बनता रहे
जिंदगी यूँ बारबार नहीं मिलती है
कुछ बातें हमको भी सीखा देती है
आने की खबर सबको होती है
पर जानेकी भनक नहीं होती है
जो काफी करीब उनके होते हैं
उनको ही खबर सिर्फ रहती है !!
=====================
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
21.12.2023

Language: Hindi
115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन के मंदिर में
मन के मंदिर में
Divya Mishra
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
*बुरे फँसे सहायता लेकर 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
अध्यापक :-बच्चों रामचंद्र जी ने समुद्र पर पुल बनाने का निर्ण
Rituraj shivem verma
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
कवि दीपक बवेजा
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
#इंतज़ार_जारी
#इंतज़ार_जारी
*Author प्रणय प्रभात*
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस चार है कंधे
बस चार है कंधे
साहित्य गौरव
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
कठपुतली का खेल
कठपुतली का खेल
Satish Srijan
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
वक्त से वकालत तक
वक्त से वकालत तक
Vishal babu (vishu)
एक तो धर्म की ओढनी
एक तो धर्म की ओढनी
Mahender Singh
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
कुछ अनुभव एक उम्र दे जाते हैं ,
Pramila sultan
Loading...