Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Nov 2022 · 1 min read

“ फेसबुक के दिग्गज ”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
================
मित्र तो
अनेक हैं
पर थोड़े
ही करीब हैं
संवाद के
बिना कहो
कैसे वो
रक़ीब हैं
युद्ध भूमि
में खड़े
अस्त्र हाथों
में पड़े
शंखनाद
सुनके कहो
कौन फिर
ना लड़े
बहाना तो
चलता नहीं
मौन कोई
रहता नहीं
सब हैं
दिग्गज यहाँ
स्तब्ध कभी
रहता नहीं
यशगान के
हैं दुरंधर
विनाश के हैं
हम पुरंधर
अपनी बातों
को रखें
हम मुक्कदर
का सिकंदर
सब अपनों
में लिप्त हैं
उपलब्धियों
से तृप्त हैं
अपनी सुगंध
से सदा
स्वयं करते
ही सिक्त है
खोज खबर
संवाद करो
दूर से ही
सलाम करो
आदर सम्मान
प्यार से
फेसबूक में
सदा रंग भरो !!
===============
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस पी कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
22.11.2022.

Language: Hindi
1 Like · 180 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सुरेंद्र शर्मा, मरे नहीं जिन्दा हैं"
Anand Kumar
इकिगाई प्रेम है ।❤️
इकिगाई प्रेम है ।❤️
Rohit yadav
करके देखिए
करके देखिए
Seema gupta,Alwar
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
दे ऐसी स्वर हमें मैया
दे ऐसी स्वर हमें मैया
Basant Bhagawan Roy
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
*हर साल नए पत्ते आते, रहता पेड़ पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
दोहे एकादश...
दोहे एकादश...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
It All Starts With A SMILE
It All Starts With A SMILE
Natasha Stephen
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/20.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो गली भी सूनी हों गयीं
वो गली भी सूनी हों गयीं
The_dk_poetry
Impossible means :-- I'm possible
Impossible means :-- I'm possible
Naresh Kumar Jangir
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
जीवन की परिभाषा क्या ?
जीवन की परिभाषा क्या ?
Dr fauzia Naseem shad
नन्ही भिखारन!
नन्ही भिखारन!
कविता झा ‘गीत’
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
प्रेम
प्रेम
Pratibha Pandey
Loading...