Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

“फूलों की तरह जीना है”

🌷”फूलों की तरह जीना है”🌷
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

‘मन’अनुरंजित, ‘तन’ अनुरंजित;
सदा कुसूमित हो, जीवन अपना।

हर कोई ही प्रफुल्लित हो, हमसे;
आते ही पास,दूर हों निज गम से।

खिला-खिला रहे, जीवन,मन से;
जब टूट भी जाएं, जो उपवन से।

काम सदा आएं,क्षणिक ही सही;
दर्द ना हो हमें , तनिक भी कहीं।

आसन बने हम भी, कई ‘देवों’ के;
मन बहलाएं, मानव सह भौरों के।

मधुप हैं प्यारे , रसपान करे हमारे;
तब मन मिठास पाए, ये जग सारे।

उस ‘डगर’ पे भी , हम ही सजे हों;
जिस डगर पर से , सपूत गुजरे हों।

बंधे हों ‘तिरंगे’ में, हमारी शान बढ़े;
हर धर्म-कर्म में , हम ही सदा चढ़े।

निज रंग रूप भी,एक प्रतीक दिखे;
कई रंगों में खिले हों,गुलाब सरीखे।

हरेक गले का भी, हम ही हार बने;
हर जनों के लिए,हम ही ‘प्यार’ बने।

कई काटों के बीच , खिले रहें हम;
सदा सुरक्षित,अपनी सुगंध फैलाते।

ये हमने सदा, फूलों से ही जाना है,
अब हमें, “फूलों की तरह जीना है”।
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

स्वरचित सह मौलिक;
..✍️पंकज कर्ण
……..कटिहार।

Language: Hindi
191 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
अपना सब संसार
अपना सब संसार
महेश चन्द्र त्रिपाठी
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ
समझा दिया
समझा दिया
sushil sarna
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
सेवा
सेवा
ओंकार मिश्र
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
व्यवहार वह सीढ़ी है जिससे आप मन में भी उतर सकते हैं और मन से
Ranjeet kumar patre
बहुत उपयोगी जानकारी :-
बहुत उपयोगी जानकारी :-
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंदाज़-ऐ बयां
अंदाज़-ऐ बयां
अखिलेश 'अखिल'
बिखरी छटा निराली होती जाती है,
बिखरी छटा निराली होती जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
* जन्मभूमि का धाम *
* जन्मभूमि का धाम *
surenderpal vaidya
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
sushil yadav
😊😊😊
😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
ग़ज़ल/नज़्म - शाम का ये आसमांँ आज कुछ धुंधलाया है
अनिल कुमार
Loading...