Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2023 · 1 min read

फिलिस्तीन इजराइल युद्ध

गर्दन खींचकर मुझे बेदखल कर दिया मेरे ही घर से,
आज घुसता हूँ तो वो मुझे आततायी चोर कहते हैं,

किसी ने ना पूछा किसी ने ना रोका उसने ऐसा क्यों किया,
मेरे ही वतन में मेरे जाने को उसकी जुबान में सब घुसपैठ कहते हैं,

मेरी जमीन छीन ली, मेरा आसमाँ छीन लिया,
मेरे खेत, मेरी नदियाँ छीन कर मुझे भूखा प्यासा सुलाते हैं,

मेरे इबादतगाह तोड़कर नेस्तनाबूद कर दिए,
मेरे पूर्वजों की कब्र पर आज वो महफिलें सजाते हैं..

मिरे बच्चे मुझे बजदिल मेरी औरतें नामर्द कहती हैं,
मैं मुँह छिपाकर रहता हूँ वो मेरे बागों में छुट्टियां मनाते हैं..।।
prAstya………… (प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
1 Like · 348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
"उम्मीद का दीया"
Dr. Kishan tandon kranti
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
हाय वो बचपन कहाँ खो गया
VINOD CHAUHAN
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सफर
सफर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2698.*पूर्णिका*
2698.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
कभी बारिश में जो भींगी बहुत थी
Shweta Soni
योगी है जरूरी
योगी है जरूरी
Tarang Shukla
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
विपक्ष से सवाल
विपक्ष से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
जाने वाले साल को सलाम ,
जाने वाले साल को सलाम ,
Dr. Man Mohan Krishna
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
बुलेटप्रूफ गाड़ी
Shivkumar Bilagrami
कर्ज का बिल
कर्ज का बिल
Buddha Prakash
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
सुध जरा इनकी भी ले लो ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
ना छीनो जिंदगी से जिंदगी को
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
आनंद और इच्छा में जो उलझ जाओगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
.
.
Ragini Kumari
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...