Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 1 min read

फिर वही शाम ए गम,

फिर वही शाम ए गम,
फिर वही तन्हाई ।
घेर लेती है तेरी यादें ,
उफ्फ! यह बेरहम जुदाई ।

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
अपना पीछा करते करते
अपना पीछा करते करते
Sangeeta Beniwal
आज इस सूने हृदय में....
आज इस सूने हृदय में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
कैसा दौर आ गया है ज़ालिम इस सरकार में।
Dr. ADITYA BHARTI
3235.*पूर्णिका*
3235.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
बो रही हूं खाब
बो रही हूं खाब
Surinder blackpen
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
💐प्रेम कौतुक-223💐
💐प्रेम कौतुक-223💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
बदल जाओ या बदलना सीखो
बदल जाओ या बदलना सीखो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अमर्यादा
अमर्यादा
साहिल
🌹पत्नी🌹
🌹पत्नी🌹
Dr Shweta sood
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sadiyo purani aas thi tujhe pane ki ,
Sakshi Tripathi
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
छोटे गाँव का लड़का था मै और वो बड़े शहर वाली
The_dk_poetry
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
*वरमाला वधु हाथ में, मन में अति उल्लास (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सारा रा रा
सारा रा रा
Sanjay ' शून्य'
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
संगति
संगति
Buddha Prakash
जनतंत्र
जनतंत्र
अखिलेश 'अखिल'
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
पिता के पदचिह्न (कविता)
पिता के पदचिह्न (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...