Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

फिर बता तेरे दर पे कौन रुके

ईद के दिन अगर न चाँद दिखे
फिर बता तेरे दर पे कौन रुके

तुझको देखा था जिस तरह मैंने
वैसी दिलकश सुहानी आज लगे

***

2 Likes · 207 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
यहां नसीब में रोटी कभी तो दाल नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
घणो ललचावे मन थारो,मारी तितरड़ी(हाड़ौती भाषा)/राजस्थानी)
gurudeenverma198
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
3234.*पूर्णिका*
3234.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
विचार पसंद आए _ पढ़ लिया कीजिए ।
Rajesh vyas
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
रिश्ते से बाहर निकले हैं - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
कैसे पाएं पार
कैसे पाएं पार
surenderpal vaidya
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
झूठ की टांगें नहीं होती है,इसलिेए अधिक देर तक अडिग होकर खड़ा
Babli Jha
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
■ संडे स्पेशल
■ संडे स्पेशल
*Author प्रणय प्रभात*
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
श्री विध्नेश्वर
श्री विध्नेश्वर
Shashi kala vyas
अब नहीं घूमता
अब नहीं घूमता
Shweta Soni
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
लाखों ख्याल आये
लाखों ख्याल आये
Surinder blackpen
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
लू, तपिश, स्वेदों का व्यापार करता है
Anil Mishra Prahari
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...