Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2023 · 1 min read

फिर दिल मेरा बेचैन न हो,

फिर दिल मेरा बेचैन न हो,
नैन लड़ा यूँ सजनी
फूल खिलें रजनीगंधा के,
रैन बिता यूँ सजनी
तेरे बिन ये जग सूना है,
छोड़ मुझे मत जाना
जान अभी दे दूँगा रोकर,
हरदम साथ निभाना
– महावीर उत्तरांचली

1 Like · 232 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
💐Prodigy Love-26💐
💐Prodigy Love-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ नई महाभारत..
■ नई महाभारत..
*Author प्रणय प्रभात*
*मौसम बदल गया*
*मौसम बदल गया*
Shashi kala vyas
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
VINOD CHAUHAN
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
मैं तुमसे दुर नहीं हूँ जानम,
Dr. Man Mohan Krishna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नश्वर तन को मानता,
नश्वर तन को मानता,
sushil sarna
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
थोड़ा पैसा कमाने के लिए दूर क्या निकले पास वाले दूर हो गये l
Ranjeet kumar patre
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राष्ट्रीय गणित दिवस
राष्ट्रीय गणित दिवस
Tushar Jagawat
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
Shubham Pandey (S P)
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
अजब दुनियां के खेले हैं, ना तन्हा हैं ना मेले हैं।
umesh mehra
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
अभी बाकी है
अभी बाकी है
Vandna Thakur
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
Taj Mohammad
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
इक दूजे पर सब कुछ वारा हम भी पागल तुम भी पागल।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
युवा
युवा
Akshay patel
Loading...