Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2022 · 1 min read

* फितरत *

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* फितरत *

कितनी किताबें पढ ली कितनी रवायतेंन देखी
हमसा ना कोई देखा हमसाया न कोई पाया
मिलने को मिले लाखों बातें भी हुई सबसे
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

वो कह रहें हैं, हमसे, आकर के गुफ्त्गु करलो
फिर भूल जाओ सबको उनसा न होगा आया
हुआ धुआं धुआं जहाँ में, मैं जो उनके करीब आया
वो राख हो गये सब, जिसने था सितम ढाया ||

बन्दगी को अपनी सुरखाव, था जो समझा
सहरा में गुल खिलाने का उनको हुनर न आया
शौके फितर था जितना , उतना ही दिल जलाया
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

बेटा अबोध समझो दुनिया है सराये फ़ानी
जिल्लत मिलेगी सबको जिसने भी दिल लगाया
मिलने को मिले लाखों बातें भी हुई सबसे
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

1 Like · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Destiny
Destiny
Shyam Sundar Subramanian
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
#drArunKumarshastri
#drArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
चुनाव चालीसा
चुनाव चालीसा
विजय कुमार अग्रवाल
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुकाम
मुकाम
Swami Ganganiya
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आलेख : सजल क्या हैं
आलेख : सजल क्या हैं
Sushila Joshi
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh Manu
"सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
*सबको बुढापा आ रहा, सबकी जवानी ढल रही (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बसंत का मौसम
बसंत का मौसम
Awadhesh Kumar Singh
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
नारी
नारी
Acharya Rama Nand Mandal
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
राम पर हाइकु
राम पर हाइकु
Sandeep Pande
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYAA
चलो चले कुछ करते है...
चलो चले कुछ करते है...
AMRESH KUMAR VERMA
प्यासा पानी जानता,.
प्यासा पानी जानता,.
Vijay kumar Pandey
आओ उस प्रभु के दर्शन कर लो।
आओ उस प्रभु के दर्शन कर लो।
Buddha Prakash
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
Loading...