Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 19, 2022 · 1 min read

* फितरत *

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* फितरत *

कितनी किताबें पढ ली कितनी रवायतेंन देखी
हमसा ना कोई देखा हमसाया न कोई पाया
मिलने को मिले लाखों बातें भी हुई सबसे
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

वो कह रहें हैं, हमसे, आकर के गुफ्त्गु करलो
फिर भूल जाओ सबको उनसा न होगा आया
हुआ धुआं धुआं जहाँ में, मैं जो उनके करीब आया
वो राख हो गये सब, जिसने था सितम ढाया ||

बन्दगी को अपनी सुरखाव, था जो समझा
सहरा में गुल खिलाने का उनको हुनर न आया
शौके फितर था जितना , उतना ही दिल जलाया
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

बेटा अबोध समझो दुनिया है सराये फ़ानी
जिल्लत मिलेगी सबको जिसने भी दिल लगाया
मिलने को मिले लाखों बातें भी हुई सबसे
मिले दिल किसी के दिल से ऐसा न कोई पाया ||

84 Views
You may also like:
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
गुणगान क्यों
spshukla09179
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां-बाप
Taj Mohammad
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
मेरा बचपन
Ankita Patel
【26】**!** हम हिंदी हम हिंदुस्तान **!**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
Loading...