Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

फितरत

ज़माने की फितरत देख
होती है हैरत अदिति
ये कोई कसर नहीं छोड़ते
किसी को गिराने में

दिल ओ दिमाग से फिर
आहिस्ता-२ हो जाते है दूर
इंसानी जज़्बात जब इनके
खोखले होने लग जाते है

गुजरते वक्त के साथ
इनकी चाहत बदल जाती है
रंग-ढंग बदल जाते है
और बदल जाते है मिजाज

शर्त बाजी पर ये लगाते है
सबको आजमाते है
अपने मजे के लिए फिर
दिल किसी का तोड़ देते है

सबसे हैसियत पूछते है
जख्मों पर नमक छिड़कते है
धन-दौलत की हवस में
रिश्तों को बर्बाद करते है

पहले तो गले लगाते है
फिर दुत्कार देते है
डंसने का हुनर जनाब
ये बखूबी जानते है

विश्वास को लूटते है
और जज़्बातों से खेलते है
सियासती चोला पहन
अपनों पे ये दांव लगाते है

छोड़ कर के फितरत
ये बदल देते है हर अंदाज़
इसलिए…,
मोहब्बत पर मेरे खुदा
मुझे अब भरोसा नहीं होता
इंसान के झूठे साथ में
मुझे अब ऐतबार नहीं होता.

– सुमन मीना (अदिति)

4 Likes · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
■ अक्लमंदों के लिए।
■ अक्लमंदों के लिए।
*Author प्रणय प्रभात*
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं मेरा ऐसा चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
नारी
नारी
Prakash Chandra
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
कभी मज़बूरियों से हार दिल कमज़ोर मत करना
आर.एस. 'प्रीतम'
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
मसीहा उतर आया है मीनारों पर
Maroof aalam
*पयसी प्रवक्ता*
*पयसी प्रवक्ता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3018.*पूर्णिका*
3018.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
!! ख़ुद को खूब निरेख !!
Chunnu Lal Gupta
"शिक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
ख्वाबों में मेरे इस तरह न आया करो
Ram Krishan Rastogi
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
संपूर्ण कर्म प्रकृति के गुणों के द्वारा किये जाते हैं तथापि
Raju Gajbhiye
गीत
गीत
Kanchan Khanna
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
जब तुम आए जगत में, जगत हंसा तुम रोए।
Dr MusafiR BaithA
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
यह मौसम और कुदरत के नज़ारे हैं।
Neeraj Agarwal
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ* आज दिनांक 1
Ravi Prakash
" जब तक आप लोग पढोगे नहीं, तो जानोगे कैसे,
शेखर सिंह
कुछ बातें पुरानी
कुछ बातें पुरानी
PRATIK JANGID
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...