Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

फितरत मेरी

फितरत मेरी बदल दी वक्त ने
क्या बचपन के दिन थे मेरे,
बेफिक्र, अल्हड़-मिजाज मैं,
धमा-चौकड़ी शाम-सवेरे,

न चिंता आगे जीवन की,
कर लूंँ वक्त को कब्जे में,
गई न फितरत बालपन की
मृग-मरीचिका के घेरे में,

आई जिम्मेवारी कन्धों पर
दो-चार हुआ जीवन से,
किंकर्तव्यविमूढ़ हुआ मैं
जब खड़ा दोराहे पर अकेले,

कमर बांँध अब करूंँ परिश्रम,
भागम-भाग लगा जीवन में,
पल-भर भी आराम नहीं अब,
फितरत मेरी बदल दी वक्त ने।

मौलिक व स्वरचित
डा.श्री रमण ‘श्रीपद्’
बेगूसराय (बिहार)

6 Likes · 4 Comments · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
View all
You may also like:
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
*🌹जिसने दी है जिंदगी उसका*
Manoj Kushwaha PS
J
J
Jay Dewangan
धरा स्वर्ण होइ जाय
धरा स्वर्ण होइ जाय
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
धर्म निरपेक्षता
धर्म निरपेक्षता
ओनिका सेतिया 'अनु '
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
हमारा जन्मदिवस - राधे-राधे
Seema gupta,Alwar
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
'हक़' और हाकिम
'हक़' और हाकिम
आनन्द मिश्र
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कांग्रेस के नेताओं ने ही किया ‘तिलक’ का विरोध
कवि रमेशराज
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
आखिर वो तो जीते हैं जीवन, फिर क्यों नहीं खुश हम जीवन से
gurudeenverma198
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
*मुख पर गजब पर्दा पड़ा है क्या करें【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
निभाना नही आया
निभाना नही आया
Anil chobisa
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
"शून्य-दशमलव"
Dr. Kishan tandon kranti
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
■ जिंदगी खुद ख्वाब
■ जिंदगी खुद ख्वाब
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
Loading...