Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

फाल्गुन वियोगिनी व्यथा

देवरू ननदिया के बारी, सजन रंगवा कईसे लगवाई
फागुन में कसे व्यंग नारी, श्रृंगार बोला कईसे सजाई
भोरे में लगे शिहरावन, फागुन देला अगिया लगाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

करकस कोयलिया के बोली,गड़े मनवा बबुर के काटा
मनवा भईल मोर खाटा, सेजिया काटे जईसे हो माटा
फागुन में फगुवा के गारी, मुँहे में दही कईसे सजाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

मन मनका के, लिही भिगाई, जागी प्यारी स्नेहिया
स्नेह रंग से, मन के रंग दिही, मोरी धानी चुनरिया
द्वेष भावना घृणा त्यागी, मीठे प्रेम की बंशी बजाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

तीसी के घुंडी सा नाचे, सरसों सा बिखरे तरुणाई
पापी कागा बोले अटरिया, उत्सुक अलख जगाई
जौ गेहूँ से पाक गए मन, साजन झलक नहीं पाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

नाचे सखियाँ बाजे ढोलक, संग में झाल मजीरा
मेरे मन में बिछोह खनक की, बाजे दारुक पीरा
छोड़ बिदेशवा घरवा आई, देई उपवन महकाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

अंखियाँ से बहे अश्रु धारा, पोछे में दुख जाए कलाई
फागुन के पुरवी बयरिया, मनके फूल देला मुरझाई
मन्मथ भए हैं कसाई, पिया जी आके हमके बचाई
उठेला बदन में अंगड़ाई, सजन तु त गईला भुलाई

Language: Bhojpuri
1 Like · 544 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Er.Navaneet R Shandily
View all
You may also like:
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
सदा के लिए
सदा के लिए
Saraswati Bajpai
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
"चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
5
5"गांव की बुढ़िया मां"
राकेश चौरसिया
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
हा मैं हारता नहीं, तो जीतता भी नहीं,
Sandeep Mishra
नया साल
नया साल
विजय कुमार अग्रवाल
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
बेटियों ने
बेटियों ने
ruby kumari
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
बहके जो कोई तो संभाल लेना
बहके जो कोई तो संभाल लेना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोस्ती
दोस्ती
Mukesh Kumar Sonkar
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
बादल को रास्ता भी दिखाती हैं हवाएँ
Mahendra Narayan
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
किसी से अपनी बांग लगवानी हो,
Umender kumar
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...