Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

फितरते फतह

ये फितरत की कुदरत पर
क्यों हजार परत है चढ़ती ।
ये भोली-भाली सूरत पर
क्यों हजार सूरत है गढ़ती ।।

ऐसे ही नही बदलती
ये फितरत और ये सूरत ।
जो जब चाहे बदल ले
जैसी हो जिसकी जररूत ।।

ये फितरत और ये सूरत
शख्स की होती है पहचान ।
चालाकी और बनावे से
दोनों ही होती है हलकान ।।

वो फितरत फितरत नही
जो बदल जाए देख मंजर ।
लाख छुपाने से भी ये
फितरत आ ही जाती नजर ।।

जमाने से वेवफाई से
बदनाम होती है शख्सियत ।
चालबाजो के चोचलों से
रंग बदलती है फितरत ।।

फर्जी,जाली-नकली में कभी
फितरत भी लगती नकली ।
पर दिल की गहराई में गढ़ी
फितरत ही मिलेगी असली ।।

होता शख्स का जमीर
शख्स का डीएनए फितरत ।
फितरत से ही शख्स पे
लगे ताज या लगती तोहमत ।।

शख्सियत है आनी-जानी
रहे फितरत की हमेशा हैसियत ।
नकली बनावटी दिखावे नही
इंसान की फितरत ही असलियत ।।
~०~
मौलिक एंव स्वरचित-२: काव्य प्रतियोगिता
जीवनसवारो,जुलाई,२०२३.

8 Likes · 2 Comments · 429 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
चूहा और बिल्ली
चूहा और बिल्ली
Kanchan Khanna
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
जितना रोज ऊपर वाले भगवान को मनाते हो ना उतना नीचे वाले इंसान
Ranjeet kumar patre
ज़िन्दगी और प्रेम की,
ज़िन्दगी और प्रेम की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)
ओनिका सेतिया 'अनु '
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
साँसों के संघर्ष से, देह गई जब हार ।
sushil sarna
विचार
विचार
आकांक्षा राय
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
मैं ज़िंदगी भर तलाशती रही,
लक्ष्मी सिंह
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
2448.पूर्णिका
2448.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
एक बिहारी सब पर भारी!!!
एक बिहारी सब पर भारी!!!
Dr MusafiR BaithA
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
अब गूंजेगे मोहब्बत के तराने
Surinder blackpen
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
" बीकानेरी रसगुल्ला "
Dr Meenu Poonia
फितरत
फितरत
Ravi Prakash
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
कोई दर ना हीं ठिकाना होगा
Shweta Soni
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
■ यक़ीन मानिएगा...
■ यक़ीन मानिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
Loading...