Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2020 · 2 min read

पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।

युवा दलित कवि नरेन्द्र वाल्मीकि द्वारा संपादित कविता संग्रह ‘कब तक मारे जाओगे’ 28/07/2020 को प्राप्त हुआ है। पुस्तक की साज-सज्जा आकर्षित करती हैं। इसके लिए प्रकाशक सिद्धार्थ बुक्स, दिल्ली बधाई के पात्र हैं। यह कविता-संग्रह ‘कब तक मारे जाओगे’ जाति व्यवस्था के घिनौने रूप को ढोने वाले समुदाय पर केन्द्रित हैं। इस पुस्तक को देखकर या पढ़कर कुछ मानसिक रोगी लोगों के मरोड़ के साथ पेट में दर्द उठ सकता है। उनकी पेट में दर्द उठना जरूरी भी है। ये मानसिक रोगी दलित समाज में जातिवाद फैलाने का आरोप नरेंद्र वाल्मीकि पर भी लगा सकते हैं। ऐसा ही आरोप मेरे द्वारा संपादित ‘वाल्मीकि एवं अंबेडकरवादी’ कविता एवं कहानी संग्रहो के प्रकाशन के बाद लगाया है। कितनी हैरानी की बात है कि वाल्मीकि समाज में बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की शिक्षाओं के प्रचार-प्रसार को लेकर कुछ बहुत ही ज्ञानी लोगों को कुछ बात हजम नहीं होती, उन्हें अपना हाजमा दुरुस्त करना होगा। अरे भाई, इस दलितों में दलित कहीं जाने वाली जाति के लोग इस समाज में अपने लेखन से बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर जी की शिक्षाओं का प्रचार-प्रसार करने में लगे हैं तो यह बेचैनी क्यों ?

इस कविता संग्रह ‘कब तक मारे जाओगे’ में छोटे-बड़े नामों के साथ 62 कवियों की रचनाओं को सम्मिलित किया गया है। ऐसा भी नहीं है कि इस संग्रह के सभी कवि जाति व्यवस्था के घिनौने रूप को ढोने वाले ही कवि हो। इसमें दलित समाज के कई दूसरे कवि भी हैं। जैसे- अरविंद भारती, आर.डी. आनंद, देवचन्द्र भारती ‘प्रखर’, रजनी तिलक, डी.के.भास्कर आदि। इन सभी की कविताएं भी इसी नरक ढोती कौम पर ही केंद्रित है।

एक ही सीटिंग में पूरा संग्रह पढ़ गया हूं। सभी कविताएं आंखों में आंखें डालकर बात करती नजर आती है। इस कविता संग्रह को देखकर या पढ़कर कहा जा सकता है कि अब दलित साहित्य का दरिया बहने से कोई नहीं रोक सकता। दलित युवा रचनाकारों की युवा टीम अब पूरी तैयारी के साथ साहित्यिक मैदान में आ चुकी है। इस संग्रह के प्रकाशन पर सभी रचनाकारों के साथ-साथ युवा कवि नरेंद्र वाल्मीकि को ढेरों बधाईयांं। प्रमुख दलित चिंतक व साहित्यकार आदरणीय डॉ. धर्मवीर जी कहा करते थे कि दलित समाज में किसी पुस्तक का प्रकाशित होकर आना ही हमारे लिए उत्सव के ही समान है।

सूरजपाल चौहान
30/07/2020

पुस्तक : कब तक मारे जाओगे (जाति व्यवस्था के घिनौने
रूप को ढोने वाले समुदाय पर केंद्रित काव्य संकलन)
प्रकाशक : सिद्धार्थ बुक्स, दिल्ली
मूल्य : ₹120
प्रकाशन वर्ष : 2020
मो. 9720866612

Language: Hindi
Tag: लेख
490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चन्द ख्वाब
चन्द ख्वाब
Kshma Urmila
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
अच्छाई बनाम बुराई :- [ अच्छाई का फल ]
Surya Barman
"गलतफहमी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आप किसी के बनाए
आप किसी के बनाए
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार और नफ़रत
प्यार और नफ़रत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
रेत पर
रेत पर
Shweta Soni
“बदलते भारत की तस्वीर”
“बदलते भारत की तस्वीर”
पंकज कुमार कर्ण
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
मेरा एक मित्र मेरा 1980 रुपया दो साल से दे नहीं रहा था, आज स
Anand Kumar
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
Harminder Kaur
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
Anil chobisa
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
Monika Verma
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
*बारिश सी बूंदों सी है प्रेम कहानी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
💐अज्ञात के प्रति-78💐
💐अज्ञात के प्रति-78💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...