Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

प्रेम (1)

बात कविता की हो,
या जीवन के किसी
भी पहलू की ।
हर क्षण की
शुऱुआत से पहले
ज़िक्र तुम्हारा होता है।
तुम्हें पाये बिना
या तुम्हें खोजे बिना ,
हो ही नहीं सकती
शुऱुआत
किसी भी क्षण की ।
-ईश्वर दयाल गोस्वामी।
कवि एवं शिक्षक।

Language: Hindi
2 Likes · 4 Comments · 1388 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
*राजा-रंक समान, हाथ सब खाली जाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
💐प्रेम कौतुक-278💐
💐प्रेम कौतुक-278💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
“ जियो और जीने दो ”
“ जियो और जीने दो ”
DrLakshman Jha Parimal
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बुद्धिमान हर बात पर,
बुद्धिमान हर बात पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
जो गगन जल थल में है सुख धाम है।
सत्य कुमार प्रेमी
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
चुनौतियाँ बहुत आयी है,
Dr. Man Mohan Krishna
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आईने में अगर जो
आईने में अगर जो
Dr fauzia Naseem shad
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
जन्म मरण न जीवन है।
जन्म मरण न जीवन है।
Rj Anand Prajapati
अतीत का अफसोस क्या करना।
अतीत का अफसोस क्या करना।
पीयूष धामी
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/241. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोध कथा। अनुशासन
बोध कथा। अनुशासन
Suryakant Dwivedi
■ एक दोहा
■ एक दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
करना था यदि ऐसा तुम्हें मेरे संग में
gurudeenverma198
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
बरसात।
बरसात।
Anil Mishra Prahari
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
Loading...