Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

“प्रेम रोग”

“प्रेम रोग”
रोशनी हो ना सकी, दिल भी जलाया मैंने,
तुझको भुला न पाया, लाख भुलाया मैंने।

है ये कैसी प्यास, जो अन्तहीन सी लगती,
बुझ ना सकी कभी वो, लाख बुझाया मैंने।

– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

6 Likes · 4 Comments · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
मोर
मोर
Manu Vashistha
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
सुख - एक अहसास ....
सुख - एक अहसास ....
sushil sarna
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आपके स्वभाव की सहजता
आपके स्वभाव की सहजता
Dr fauzia Naseem shad
वक्त की रेत
वक्त की रेत
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का सफर
जीवन का सफर
नवीन जोशी 'नवल'
If you want to be in my life, I have to give you two news...
If you want to be in my life, I have to give you two news...
पूर्वार्थ
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
तुमसे ही दिन मेरा तुम्ही से होती रात है,
AVINASH (Avi...) MEHRA
जन्मदिन विशेष : अशोक जयंती
जन्मदिन विशेष : अशोक जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
पढ़ाकू
पढ़ाकू
Dr. Mulla Adam Ali
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
प्रेम🕊️
प्रेम🕊️
Vivek Mishra
// जय श्रीराम //
// जय श्रीराम //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आया नववर्ष
आया नववर्ष
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Radiance
Radiance
Dhriti Mishra
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
बता दिया करो मुझसे मेरी गलतिया!
शेखर सिंह
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
*रायता फैलाना(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*** मन बावरा है....! ***
*** मन बावरा है....! ***
VEDANTA PATEL
3050.*पूर्णिका*
3050.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
युग प्रवर्तक नारी!
युग प्रवर्तक नारी!
कविता झा ‘गीत’
"'मोम" वालों के
*प्रणय प्रभात*
Loading...