Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

प्रेम की राख

अंत समय में आये हो,
जलने के बाद ,
जो राख बची है,
उसमें ही संस्कार छुपे है।

मर मिटा है ये शरीर,
मस्तिष्क में याद बसी है।

नश्वर तो काया होती है,
इस स्वभाव से कौन बचा है,
आगे आया हूँ मैं अगर,
पीछे पद चिन्ह तुमने छोड़ रखे है।

उसी मिट्टी की राख को,
फूल बना के समेट रहे हो।

धीरे-धीरे जग की रीत को,
एक संस्कार से घसीट रहे हो,
सत्य से अवगत् होकर के भी,
आपस में नहीं सीख रहे हो।

जन्म मरण का है संसार,
फिर भी प्रेम से रहना भूल रहे हो।

दो गज की धरा पर लेटे,
धुवांँ-धुवांँ सा हो जाओगे,
मिट्ठी भर के ढ़ेरी में तुम भी,
इसी धरा में लुप्त हो जाओगे।

बाँट रखा जो प्रेम तूने जग में,
वह प्रेम जग में तुम्हें अमर कर रखा है।

रचनाकार-
✍🏼✍🏼
बुद्ध प्रकाश
मौदहा हमीरपुर।

4 Likes · 1 Comment · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
2658.*पूर्णिका*
2658.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
■ अपना दर्द, दवा भी अपनी।।
*प्रणय प्रभात*
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जब तक लहू बहे रग- रग में
जब तक लहू बहे रग- रग में
शायर देव मेहरानियां
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
इसकी वजह हो तुम, खता मेरी नहीं
gurudeenverma198
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबकी सलाह है यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
स्थापित भय अभिशाप
स्थापित भय अभिशाप
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
हमारी संस्कृति में दशरथ तभी बूढ़े हो जाते हैं जब राम योग्य ह
Sanjay ' शून्य'
विचार
विचार
Godambari Negi
गीत
गीत
Shweta Soni
तेज़ाब का असर
तेज़ाब का असर
Atul "Krishn"
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
Ravi Prakash
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
ग्रहस्थी
ग्रहस्थी
Bodhisatva kastooriya
कोई कितना
कोई कितना
Dr fauzia Naseem shad
Loading...